Sunday , August 20 2017
Home / Delhi News / पुराने नोटों को जमा कराने को लेकर आरबीआई ने फैसला वापस लिया

पुराने नोटों को जमा कराने को लेकर आरबीआई ने फैसला वापस लिया

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक ने पुराने नोटों को जमा कराने को लेकर अपना फैसला वापस ले लिया है। आपको बता दें कि रिज़र्व ने एक नियम बनाया था कि अब 5000 से अधिक पुराने नोट को जमा कराने पर बैंक में लोगों से पूछताछ की जाएगी और नोट का पूरा ब्यौरा देना होगा। लेकिन अब से ऐसा नहीं होगा। क्योंकि रिजर्व बैंक ने अपना यह आदेश वापस ले लिया हैं। कहा जा रहा है कि इस फैसले के बाद लोगों के दिक्कतों को सामने आने के बाद ही रिजर्व बैंक ने इस संबंध में जारी अपने सर्कुलर को वापस लिया।

हालांकि रिज़र्व बैंक ने इस आदेश को वापस लेने के साथ यह भी कहा है कि जिन लोगों का अकाउंट केवाईसी मानक के अनुरूप है तो वो 30 दिसंबर तक 5000 से अधिक के पुराने नोट को भी जमा कर सकते है उनसे पूछताछ नहीं की जाएगी। गौरतलब हो कि सोमवार को आरबीआई ने एक बड़ा फैसला लिया था। जिसके यह यह कहा गया था कि 30 दिसंबर तक लोग अपने बैंक खाते में एक बार ही पुराने नोट जमा करा सकेंगे।
इसके साथ ही आरबीआई ने यह भी कहा था कि जो भी खाताधारक 5000 से अधिक के नोट जमा करायेंगे। उन्हें बैंक को लिखित में बताना पड़ेगा कि इस पैसे का स्रोत क्या है और इसे अबतक क्यों नहीं जमा कराया।

आपको बता दें कि इस फैसले के बाद बैंकों और उपभोक्ताओं दोनों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिसे देखते हुए अब आरबीआई ने इस फैसले को वापस ले लिया है। बताते चले कि कांग्रेस के प्रवक्ता मीम अफजल ने आरबीआई के इस फैसले का विरोध करते हुए सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि नोटबंदी का फैसला बिना सोचे-समझे लिया गया है। यही वजह है कि बार-बार फैसले में बदलाव किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT