Friday , September 22 2017
Home / Assam / West Bengal / पुराने नोट की वजह से शव को श्मशान घाट में जलाने की नहीं मिली अनुमति

पुराने नोट की वजह से शव को श्मशान घाट में जलाने की नहीं मिली अनुमति

कोलकाता: हजार और पांच सौ रुपये के नोट पर प्रतिबंध का असर जीवन के सभी क्षेत्रों पर पड़ रहा है। पश्चिमी बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में कई परिवार को नया नोट नहीं होने के कारण श्मशान घाट में शव जलाने और अंतिम संस्कार व रीति रिवाज करने से रोक दिया गया। मुर्शिदाबाद जिले के बहरामपूर के कघरा और गोरा बाजार के श्मशान घाट में नई मुद्रा नहीं देने की वजह से चार परिवार को अपने मुर्दे का अंतिम संस्कार करने से रोक दिया गया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ नेटवर्क समूह प्रदेश 18 के अनुसार श्मशान घाट प्रशासन ने नोटिस लगा रखा है कि वह केवल सौ और पचास रुपये के नोट लेंगे. जब कि केंद्र सरकार ने अस्पताल, दवाख़ाना और रेलवे स्टेशन में पांच सौ और हजार रुपए के नोट को 14 नवंबर तक प्राप्त करने की अवधि निर्धारित की है।
मृत के परिवार के अनुसार उनके पास पांच सौ और दो हजार के नए नोट नहीं थे इसलिए उन्हें अपने मुर्दे का अंतिम संस्कार करने से रोक दिया गया। कशेब चंद्रा नामक व्यक्ति ने कहा कि जब मुर्दे को श्मशान घाट लाया गया तो प्रशासन ने 500 और हजार रुपये के पुराने नोट लेने से इनकार कर दिया। हम लोग आम आदमी हैं हमारे पास ज्यादा रुपये नहीं है। घर में मौत की वजह से कोई भी बैंक जाकर नोट चेंज नहीं करा सका मगर श्मशान घाट ने भी हमारे साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया।
श्मशान घाट में तैनात नगर पालिका कर्मचारी अचेता मंडल ने कहा कि आज सुबह जब वह ड्यूटी पर पहुंचे तो प्रशासन ने उन्हें निर्देश दिया था कि हजार और पांच सौ के पुराने नोटों को स्वीकार नहीं किया जाए. परिवार वाले ने अपने रिश्तेदार के पास से 100 के नोट का प्रबंधन करने के बाद आखिरकार अपने मुर्दे की अंतिम रस्म अदा की।
स्थानीय सांसद और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने नगर पालिका के कर्मचारियों की इस हरकत पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि सरकार ने आपातकालीन स्थिति में पांच सौ और हजार रुपये के नोट लेने की हिदायत दे रखी है। श्मशान घाट भी इसी श्रेणी में आता है उन्हें वैसे भी पुराने नोट स्वीकार करना चाहिए. हम उसके खिलाफ कार्रवाई करने की कोशिश करेंगे।

TOPPOPULARRECENT