Wednesday , October 18 2017
Home / Khaas Khabar / पुराने शहर में कशीदगी कई फंक्शन हॉल्स में तक़ारीब मुल्तवी

पुराने शहर में कशीदगी कई फंक्शन हॉल्स में तक़ारीब मुल्तवी

पुराने शहर में ज़बरदस्त कशीदगी के सबब चारमीनार और अस पास के इलाक़ों में वाक़े फंक्शन हॉल्स में आज मुनाक़िद शुदणी तक़रीबात को पुलिस ने ज़बरदस्ती मुल्तवी करवा दिया।

पुराने शहर में ज़बरदस्त कशीदगी के सबब चारमीनार और अस पास के इलाक़ों में वाक़े फंक्शन हॉल्स में आज मुनाक़िद शुदणी तक़रीबात को पुलिस ने ज़बरदस्ती मुल्तवी करवा दिया।

चारमीनार, मुग़ल पूरा और शाह अली बंडा इलाक़ों में वाक़े फंक्शन हॉल्स को पुलिस ने पहुंच कर पता लगाया के आया उन के हाँ शाम के औक़ात कोई तक़रीबात तो नहीं है जब कुछ फंक्शन हॉल्स के ज़िम्मेदारों ने उन्हें मुसबत (positive )में जवाब दिया तो उन से फंक्शन हाल किराये पर हासिल करने वालों के टेलीफोन नंबरात हासिल करते हुए उन्हें इलाके की सूरत-ए-हाल के पेशे नज़र अपनी तक़रीबात मुल्तवी (स्थगित) कर देने का मश्वरा दिया मगर जब दाई तक़रीब (मेज़‌बान) ने बताया कि इस ख़सूस में दावत नामे तक़सीम किए जा चुके हैं और तमाम मॆहमानों को तक़रीब के अलतवा के बारे में इतेला देना मुम्किन नहीं है तो पुलिस ओहदेदारों ने उन से कहा के वो कुछ भी कर लें तक़रीब को मुल्तवी करदें चूँके हालात के पेश नज़र उन्हें तक़रीब मुनाक़िद करने की इजाज़त नहीं दी जाती।

असलम फंक्शन हाल, अकबर फंक्शन हाल, अवीस फ़नकश हाल और इशरत महल में मुनाक़िद शुदणी तक़रीबात को पुलिस ने मुनाक़िद करने की इजाज़त नहीं दी। मेज़बानों को बताया गया कि चूँके इमतिनाई अहकाम नाफ़िज़ हैं इस लिए फंक्शन हाल के पास तीन अफ़राद से ज़ाइद लोगों का मजमा नहीं होसकता है, लेहाज़ा वो अपनी तक़रीब मुल्तवी करदें।

पुलिस के अचानक चंद घंटों पहले तक़रीब मुनाक़िद करने की इजाज़त देने से इनकार करदेने के बाइस तक़रीबात की मेज़बानों को नाक़ाबिल बयान हालात से दो-चार होना पड़ा चूँके वो सैंकड़ों की तादाद में अपने मेहमानों को तक़रीब के अलतवा के बारे में आगाह नहीं कर पा सकते।

उन्हें अख़बारात के ज़रीये तक़रीबात के अलतवा का ऐलान करने का भी मौक़ा नहीं मिल सका। तकरीबन सभी मेज़बानों ने तक़रीब के सिलसिला में पकवान का सारा सामान खरीद लिया था और जल्द सड़ जाने वाली चीज़ जैसे गोश्त और तरकारियां वगैरह भी खरीद चुके थे, इस लिए उन्हें जहां अपने मेहमानों से माज़रत ख़्वाही करते रहना पड़ा वहीं उन्हें माली नुक़्सान से भी दो-चार होना पड़ा

TOPPOPULARRECENT