Tuesday , September 26 2017
Home / Featured News / पुराने शहर हैदराबाद में अवाम तरक़्क़ी-ओ-तबदीली के ख़ाहां

पुराने शहर हैदराबाद में अवाम तरक़्क़ी-ओ-तबदीली के ख़ाहां

Congress Candidates from Mohammed Ghouse(SHAH? ?ALI? ??BANDA), SMT. PARVEEN SULTANA(GHANSI BAZAR WARD NO 49 ) pose for a photograph with Mohammed Ali Shabbir MLC leaders of the Opposition in Council in back drop of the historic Charminar during their padyatra and door to door campaign in old city of Hyderabad on Wednesday. Pic:Style photo service.

हैदराबाद 21 जनवरी: पुराने शहर के मर्कज़ी इलाक़ों में कांग्रेस ने अपनी चुनाव मुहिम का ज़ोर के साथ आग़ाज़ कर दिया। क़ाइद अप्पोज़ीशन तेलंगाना क़ानूनसाज़ कौंसिल मुहम्मद अली शब्बीर की निगरानी में शुरू करदा चुनाव मुहिम पर पुराने शहर में अवाम ने ज़बरदस्त रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए कांग्रेसी क़ाइदीन का ख़ौरमक़दम किया और कई मुक़ामात पर कांग्रेसी क़ाइदीन-ओ-उम्मीदवारों की बकसरत गुलपोशी करते हुए उम्मीदवारों को कामयाब बनाने का यक़ीन दिया।

मुहम्मद अली शब्बीर ने पुराने शहर के बलदी हलक़ाजात शाह अली बंडा, दूध बाओली, पुराना पुल और घानसी बाज़ार के मुख़्तलिफ़ इलाक़ों का दौरा करते हुए अवाम से ख़िताब किया और कांग्रेस उम्मीदवारों को कामयाब बनाते हुए पुराने शहर की तरक़्क़ी की राह हमवार करने की अपील की।

इस मौके पर उनके हमराह कांग्रेसी उम्मीदवार मुहम्मद ग़ौस ( पुराना पुल ), मेराज मुहम्मद ( दूध बाओली) , प्रवीण सुल्ताना ( घानसी बाज़ार) , मुहम्मद सुहेल ( शाह अली बंडा ), इव्ज़ अफ़ारी ( जनगममेट ) के अलावा सीनीयर कांग्रेस क़ाइदीन शेख़ अबदुल्लाह सुहेल, सय्यद निज़ामुद्दीन और दुसरे मौजूद थे।

मुहम्मद अली शब्बीर ने इस मौके पर मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर अवाम से ख़िताब के दौरान पिछ्ले कई बरसों से पुराने शहर के बलदी हलक़ों पर क़ाबिज़ मजलिसी क़ाइदीन की तरफ से तरक़्क़ी को नज़रअंदाज किए जाने का इल्ज़ाम आइद करते हुए कहा कि हर मर्तबा मजलिस ने पुराने शहर की तरक़्क़ी की राह में रुकावटें पैदा की हैं।

मुहम्मद अली शब्बीर ने बताया कि पिछ्ले बरसों में कांग्रेस और मजलिस के दरमियान इत्तेहाद के सबब कांग्रेस ने मजलिस पर एतेमाद करते हुए लाखों करोड़ रुपय शहर की तरक़्क़ी के लिए मुख़तस किए और पुराने शहर की ख़ुसूसी तरक़्क़ी के लिए 2000 करोड़ रुपये का पैकेज फ़राहम किया गया लेकिन आज शहर की गलीयों में देखने के बाद एसा महसूस हो रहा है कि इन 2 हज़ार करोड़ से कोई काम अंजाम नहीं दिए गए।

TOPPOPULARRECENT