Saturday , October 21 2017
Home / India / पूनॆ में एहितजाजी बंद का मिला जुला असर

पूनॆ में एहितजाजी बंद का मिला जुला असर

पूनॆ २६ नवंबर । ( पी टी आई ) एन सी पी के सदर और मर्कज़ी वज़ीर-ए-ज़राअत शरद पूरा पर हुए हमला पर बतौर-ए-एहतजाज पौने बंद का मिला जुला असर देखने में आया । पूनॆ शहर में पूनॆ महानगर परीवाहन महामंडल लिमेटेड (PMPML) की बसें सड़कों पर दौड़ती नज़र आएं।

पूनॆ २६ नवंबर । ( पी टी आई ) एन सी पी के सदर और मर्कज़ी वज़ीर-ए-ज़राअत शरद पूरा पर हुए हमला पर बतौर-ए-एहतजाज पौने बंद का मिला जुला असर देखने में आया ।
पूनॆ शहर में पूनॆ महानगर परीवाहन महामंडल लिमेटेड (PMPML) की बसें सड़कों पर दौड़ती नज़र आएं।

इलावा अज़ीं मुतअद्दिद स्कूल्स , तिजारती इदारे , सरकारी-ओ-ख़ानगी दफ़ातिर में भी मामूल के मुताबिक़ काम जारी रहा अलबत्ता कुछ गेरा हम इदारे बंद रहे क्योंकि बंद के ऐलान के बाद ही शहर में उलझनीं और ग़ैर यक़ीनी का माहौल पैदा हो गया था ।

दरीं असना PMPML के रवाबित आम्मा अफ़्सर दीपक सिंह परदेसी ने कहाकि हमें चूँकि बंद के ताल्लुक़ से सरकारी तौर पर कोई इत्तिला नहीं मिली थी लिहाज़ा हम ने बंद में शामिल ना होने का फ़ैसला किया ।

कोनढवा और लुला्अनगर से बसों को नुक़्सान पहुंचाने के दो वाक़ियात की इत्तिला मिली है लेकिन उन के इलावा शर के दीगर इलाक़ों में आमद-ओ-रफ़त में कोई रखना अंदाज़ी नहीं हुई चूँकि सकीवरीटी के माक़ूल इंतिज़ामात किए गए थे जहां रियास्ती रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स (CRPF) की काबुल लिहाज़ तादाद को शहर के हस्सास इलाक़ों में ताय्युनात किया गया है जबकि तिल्ला ये गर्दी का सिलसिला भी जारी है ।

मुक़ामी पुलिस भी CRPF के साथ तआवुन कररही है । दूसरी तरफ़ पौने के मेयर मनमहोन सिंह राज पाल और उन सी पी सरबराह ( सिटी ) वंदना चौहान ने कल ही शरद पवार पर हमला के वाक़िया के आम होते ही बतौर-ए-एहतजाज बंद मनाने का ऐलान करदिया था जहां शहरीयों से अपील की गई थी कि वो महाराष्ट्रा के हरदिलअज़ीज़ क़ाइद शरद पवार पर हमला के ख़िलाफ़ बंद के ज़रीया इज़हार यगानगत करें।

हमला आवर चूँकि सुख नौजवान था इस लिए सुख फ़िर्क़ा में भी एक इज़तिराबी कैफ़ीयत पाई जा रही है । उन्हें ये अंदेशा है कि हमला के ख़िलाफ़ कहीं सुख नौजवानों को तशद्दुद का निशाना ना बनाया जायॆ।

रियास्ती हुकूमत ने सुख बिरादरी से वाज़िह तौर पर कहा है कि ये वाक़िया बिलकुल्लिया सयासी नौईयत का है और इस से मज़हब को जोड़ने की कोई ज़रूरत नहीं है लिहाज़ा सुख फ़िर्क़ा बिलकुल मुतमइन रहे ।

TOPPOPULARRECENT