Thursday , August 17 2017
Home / Jharkhand News / पेट्रोल-डीजल पर वैट बढ़ाने पर 1 अक्टूबर कोे रियासत में चक्का जाम

पेट्रोल-डीजल पर वैट बढ़ाने पर 1 अक्टूबर कोे रियासत में चक्का जाम

रांची : रियासत में पेट्रोल और डीजल की क़ीमत में इजाफा के हुकूमत के फैसले का चौतरफा मुखालिफत शुरू हो गया है। झारखंड ट्रक ओनर्स एसोसिएशन ने एक अक्टूबर को ट्रकों का चक्का जाम करने की एलान की है। वहीं झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने कहा है कि नोटिफिकेशन जारी होते ही वे पेट्रोल पंप बंद कर देंगे। ट्रक ओनर्स एसोसिएशन के सदर उदय शंकर ओझा ने कहा कि सरकार अपना खजाना भरने के लिए अवामी मुखालिफत फैसला न ले।

उन्होंने कहा कि 18 सितंबर को अलबर्ट एक्का चौक पर सरकार का पुतला फूंका जाएगा। 30 सितंबर को सभी जिलों में मशाल जुलूस निकाला जाएगा और एक अक्टूबर को रियासत भर में चक्का जाम कर दिया जाएगा। इस दरमियान एसोसिएशन वजीरे आला रघुवर दास से मिलेगा और उन्हें मेमोरेंडम सौंपेगा।

झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने कहा है कि नोटिफिकेशन जारी होने के बाद न तो पेट्रोल पंप मालिक हड़ताल करेंगे और न ही सरकार से बात करेंगे। खुद ही पेट्रोल पंप बंद हो जाएगा। एसोसिएशन के सदर अशोक सिंह ने कहा कि अवाम ने नरेंद्र मोदी के नाम पर वोट दिया था, न कि रघुवर दास के नाम पर। झारखंड के 1000 पेट्रोल पंप मालिक दिल्ली जाएंगे। वजीरे आजम से मिलेंगे। फिर भी हल नहीं निकला तो दिल्ली में ही अपनी-अपनी कंपनी को पेट्रोल पंप की चाबी सौंप कर लौट आएंगे।

रियासत में पहली बार फिक्स रेट का वैट लागू हुआ है। पेट्रोल-डीजल को छोड़कर रियासत में किसी दीगर आलात पर ऐसा नहीं है। सभी पर कीमत के बुनियाद पर ही वैट वसूला जाता है। यानी अब सरकार का एक ही फॉर्मूला है कि पेट्रोल-डीजल कितना भी सस्ता हो, उसे मिलने वाले टैक्स में कोई कमी नहीं आएगी। अभी रियासती हुकूमत पेट्रोल-डीजल से वैट के तौर में सालाना 1000 करोड़ रुपए वसूल रही है। हाल में पेट्रोलियम अलातों की कीमतें कम होने से सरकार को वैट में माहाना 15 से 20 करोड़ रुपए कम मिल रहे थे। आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में और गिरावट की इंकनात है। इसे देखते हुए सरकार ने दस्तूर को ताक पर रखते हुए यह फैसला ले लिया।

TOPPOPULARRECENT