Wednesday , August 23 2017
Home / Politics / प्रशांत किशोर को मिला जबर्दस्त पावर, राहुल गांधी से कभी भी सम्पर्क करने की है इजाजत

प्रशांत किशोर को मिला जबर्दस्त पावर, राहुल गांधी से कभी भी सम्पर्क करने की है इजाजत

कांग्रेस पार्टी के गिरते ग्राफ को ऊपर चढ़ाने के लिए लाए गए चुनाव प्रचार प्रबंधक प्रशांत किशोर का असली काम वहीं से शुरू होगा, जहां पार्टी रसातल में हैं। उत्‍तर प्रदेश में चुनाव होने में साल भर से भी कम का वक्‍त बचा है। ऐसे समय में कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी के सामने चुनौती है कि वह 2019 के आम चुनावों से पहले होने वाली सबसे बड़ी परीक्षा के लिए खोई हुई जमीन हासिल करें।

उत्‍तर प्रदेश में करीब 20 करोड़ लोग रहते हैं, इस लिहाज से यूपी और पंजाब के नतीजे काफी हद तक ये तय करेंगे कि अगला प्रधानमंत्री कौन होगा। 2014 में बीजेपी ने उत्‍तर प्रदेश की 80 में से 71 लोकसभा सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस के लिए सिर्फ सोनिया और राहुल गांधी ही अपनी-अपनी सीट बचा पाए थे।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

उत्‍तर प्रदेश की लड़ाई में कांग्रेस को मजबूती से खड़ा करने के लिए राहुल गांधी ने प्रशांत किशोर से कांग्रेस की रणनीति बनाने में मदद मांगी है। प्रशांत वही शख्‍स हैं जिन्‍होंने मॉडर्न तकनीक के इस्‍तेमाल से मोदी को नई दिल्‍ली पहुंचा दिया। किशोर अब उन्‍हीं तरीकों से काम करना चाहते हैं, जैसे मोदी और बीजेपी करती है। 38 साल के प्रशांत के पास रिसर्चर्स की एक टीम है जो जनगणना के डाटा को एनालाइज कर हर सीट पर उन्‍हें वोट में तब्‍दील करती है।

किशोर के करीबी सूत्रों के मुताबिक, वह कभी भी, कहीं भी राहुल गांधी से मिल सकते हैं, बात कर सकते हैं। हालांकि वो उनके रोजमर्रा के दौरे तय नहीं करते। कि शोर पार्टी को संरक्षण के सिस्‍टम से बाहर निकालने के लिए प्रतिबद्ध हैं। वह जमीन से जुड़े नए चेहरे लाने को तैयार हैं चाहे इससे कांग्रेस के पुराने नेताओं को दिक्‍कत ही क्‍यों ना हो।

TOPPOPULARRECENT