Sunday , October 22 2017
Home / India / पड़ोसी मुल्कों से हिंदुस्तान को खतरा: भागवत

पड़ोसी मुल्कों से हिंदुस्तान को खतरा: भागवत

नासिक, 20 अप्रैल: आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने कहा है कि पड़ोसी मुल्को के गैर दोस्ताना रवैये की वजह से मुल्क की सेक्युरिटी को खतरा पैदा हो रहा हैं।

नासिक, 20 अप्रैल: आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने कहा है कि पड़ोसी मुल्को के गैर दोस्ताना रवैये की वजह से मुल्क की सेक्युरिटी को खतरा पैदा हो रहा हैं।

बिना किसी मुल्क का नाम लिए हुए उन्होंने कहा कि इंसान की फलाह व बहबूद के लिए हिंदुस्तान की तरक्की जरूरी है। हालांकि इससे आलमी मसाइल का हल नहीं निकला जा सकता क्योंकि मुल्क मशरिकी और मगरिबी सरहदो पर गैरदोस्ताना पड़ोसियों से घिरा है, जो उसके लिए खतरा पैदा कर रहे हैं। उन्होंने यह बात जुमेरात को आरएसएस की नासिक यूनिट की तरफ से रामनवमी के मौके पर मुनाकिद एक प्रोग्राम के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि तीन जंग के बाद भी पड़ोसी मुल्क का गैर दोस्ताना सुलूक बरकरार है। मुल्क की सरहदे महफूज़ नहीं है क्योंकि हिंदुस्तान में जाली करंसी, हथियार और दहशतगर्दों की घुसपैठ वहीं से हो रही है। भागवत ने सवाल उठाया कि एक तरफ हम सुपर पावर बनने का खाब देख रहे हैं वहीं आम लोग महंगाई से मुतास्सिर हैं, किसान खुदकुशी कर रहे हैं और मुल्क सूखे से जूझ रहा है। इन हालातों में तरक्की कहां हो रही है? उन्होंने कहा कि इसके लिए वोटर भी बराबर से जिम्मेदार है।

जाति, खित्ते, ज़ुबान और पानी को लेकर झगड़ा हो रहा है और रोज़ाना इस्मतरेज़ी के मामले सामने आ रहे हैं। हम इन मुद्दों पर बहस करते हैं, लेकिन इसका हल निकालने की कोशिशनहीं करते।

उन्होंने कहा कि आरएसएस की बुनियाद मजबूत है। हम किसी की मुखालिफत नहीं करते हैं और कोई हमारा दुश्मन नहीं है, लेकिन हमें खत्म करने कि कोशिश की जा रहा है। मगर आरएसएस के काम और मकबूलियत को देखते हुए किसी में भी हमें खत्म करने की ताकत नहीं है।

TOPPOPULARRECENT