Wednesday , October 18 2017
Home / Hyderabad News / फ़ूड सेक्यूरिटी बिल पर अमल आवरी का मयारी मैकेनिज्म ज़रूरी

फ़ूड सेक्यूरिटी बिल पर अमल आवरी का मयारी मैकेनिज्म ज़रूरी

हैदराबाद 20 जुलाई: मर्कज़ के पुरविक़ार फ़ूड सेक्यूरिटी इक़दामात को बेतर बनाने के लिए सख़्त निगरानी ज़रूरी है। यू पी ए हुकूमत ने मुल्क के गरीब अवाम तक सस्ता अनाज फ़राहम करने इस फ़ूड सेक्यूरिटी बिल को लाया है ताहम बिहार में हुए मिड डे मिल

हैदराबाद 20 जुलाई: मर्कज़ के पुरविक़ार फ़ूड सेक्यूरिटी इक़दामात को बेतर बनाने के लिए सख़्त निगरानी ज़रूरी है। यू पी ए हुकूमत ने मुल्क के गरीब अवाम तक सस्ता अनाज फ़राहम करने इस फ़ूड सेक्यूरिटी बिल को लाया है ताहम बिहार में हुए मिड डे मिल सानिहा की तरह मुल्क के किसी भी हिस्से में इस तरह का सानिहा ना होने पाए को यक़ीनी बनाने के लिए मयारी कंट्रोल मैकेनिज्म का होना ज़रूरी है।

ए आई सी सी तर्जुमान भगत चरण दास ने कहा कि अवाम निज़ाम तक़सीम के ज़रीये फ़ूड सेक्यूरिटी बिल को फ़राहम करने के लिए राशन कार्ड्स को डीजिटिलाइजेशन कंप्यूटरलइजेशन के ज़रये स्पलाई की कड़ी तैयार करना शिकायत के अज़ाला के लिए बेहतर मैकेनिज्म भी रखने के साथ हर सतह पर चौकसी ज़रूरी है।

मुक़ामी चुने हुवे इदारों ,ख़वातीन के सेल्फ हलप ग्रुप और पंचायतों को ग़िज़ाई तमानियत बिल पर अमल करने के लिए सरगर्म होजाना चाहीए।

बिहार के ज़िला सारंग में मिड डे मिल खाने के बाद 23 बच्चे अपनी ज़िन्दगियों से हाथ धो बैठे। एक सवाल के जवाब में भगत चरण दास ने कहा कि में इस मसले पर कोई सियासत करना नहीं चाहता।

बिहार में जो कुछ हुआ वो मुल्क के किसी और हिस्से में ना होने पाए। जब फ़ूड बिल पर अमल होगा तो 2 यह 3 मुक़ामात पर उसकी अमल आवरी को बेहतर बनाया जाने की कोशिश की जाएगी।

इस सिलसिले में किसी किस्म की लापरवाही और कोताही नहीं की जानी चाहीए। ये पूछे जाने पर कि आख़िर पार्ल्यमंट सेशन की कार्रवाई के दौरान आर्डीनैंस लाने में क्या उजलत थी। उन्होंने कहा कि असल अपोज़ीशन और दुसरे अपोज़ीशन पार्टियां पिछ्ले दो साल से पार्ल्यमंट की कार्रवाई में रुकावटें खड़ी कर रही हैं।

TOPPOPULARRECENT