Tuesday , October 24 2017
Home / Bihar News / फिर बिहार आ सकते हैं मोदी

फिर बिहार आ सकते हैं मोदी

हुंकार रैली की कामयाबी से हौसला अफजाई बीजेपी जल्द पूरे रियासत में रैलियों का सिलसिला शुरू करने की तैयारी में है। इनमें से ज़्यादातर पार्टी के वजीरे आजम ओहदे के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के शामिल होने की इमकान है। अगले हफ्ते पार्टी क

हुंकार रैली की कामयाबी से हौसला अफजाई बीजेपी जल्द पूरे रियासत में रैलियों का सिलसिला शुरू करने की तैयारी में है। इनमें से ज़्यादातर पार्टी के वजीरे आजम ओहदे के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के शामिल होने की इमकान है। अगले हफ्ते पार्टी की बैठक में रैलियों के प्रोग्राम को हतमी शकल दिया जाएगा।

गांधी मैदान में हुंकार रैली में हुए जुटान से भाजपा के आला ओहदेदार खासे पुरजोश हैं। रैली के दौरान सीरियल बम धमाकों ने पार्टी को नीतीश कुमार पर हमला बोलने का एक और मौका दे दिया। धमाकों में मारे गए लोगों को शहीद करार देते हुए अस्थिकलश सफर भी निकाली गयी। लेकिन अब भाजपा के सामने पार्टी के हक़ में बने इस माहौल को लोकसभा इंतिख़ाब तक बनाए रखने की बड़ी चैलेंज है।

हुंकार रैली के बाद हुक्मरान पार्टी जदयू और दीगर पार्टियों का रुख भी जार हाना हो गया है। जनता दल युनाइटेड ने भी पूरे रियासत में बारह आज़म जलसे करने की ऐलान कर दी है। इनमें कुछ जलसों में वजीरे आला नीतीश कुमार शामिल होंगे। जाहिर है इन तमाम जलसों में बीजेपी खास तौर पर नरेंद्र मोदी ही सीधे निशाने पर रहेंगे। भाजपा अपनी रैलियों में पार्टी के वज़ीरे आजम ओहदे के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को आगे कर माइलेज लेने की हिकमत अमली पर काम कर रही है। इन रैलियों में रियासत हुकूमत खास तौर पर नीतीश कुमार के साथ साथ सीरियल बम धमाकों को रोक पाने में नाकामी को भी मुद्दा बनाने की तैयारी है।

अगले हफ्ते पार्टी के रियासत दफ्तर में रियासत के ओहदेदारों की बैठक भी बुलाई गयी है। बैठक में इन चौदह रैलियों के सिलसिले में तौसिह प्रोग्राम तय किया जाएगा। हालांकि पार्टी के रियासती सदर मंगल पांडेय के मुताबिक अभी सारा जोर हुंकार रैली के जख्मियों के इलाज पर है। आगे की हिकमत अमली 11 नवंबर को होने वाली रियासती ओहदेदारों की बैठक में तय की जाएगी।

TOPPOPULARRECENT