Friday , October 20 2017
Home / Sports / फील्डिंग के मनफी कानून को खत्म किया जाय – जैय वर्धने

फील्डिंग के मनफी कानून को खत्म किया जाय – जैय वर्धने

ब्रिस्बेन। 17 जनवरी श्री लंकाई क्रिकेट टीम के कप्तान महेला जय वर्धने ने आज तजुर्बाती तौर पर आई सी सी की जानिब से मुतआरिफ़ करदा वनडे क्रिकेट के फ़ील्डिंग क़ानून को ख़त्म करने का मुतालिबा किया है। ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ यहां तीसरे वनडे के इनइक़ाद के ख़सूस में टीम के सीनयर बैटस्मैन ने कहा कि आई सी सी की जानिब से वनडे में ग्यारहवीं ता चालीसवीं ओवर के दौरान 30 गज़ के दायरे से बाहर सिर्फ़ चार फील्डरों को तैनात करने का क़ानून मनफ़ी खेल को बढ़ावा दे रहा है।

उन्होंने मज़ीद कहा कि आई सी सी की जानिब से मुतआरिफ़ करदा इस क़ानून के बाद अगर दियानतदारी से कहा जाये तो स्पिनरस में मनफ़ी सोच बढ़ रही है क्योंकि ये वही वक़्त होता है जब स्पिनरस एक्शण में दिखाई देते हैं। ब्रिस्बेन में मीडीया नुमाइंदों से इज़हार करते हुए जैय वर्धने ने कहा कि स्पिनरस विकेट के हुसूल से कहीं ज़्यादा तवज्जु हरीफ़ बेटसमनों को कम से कम रंस‌ देने पर मर्कूज़ करते हैं।

आई सी सी की जानिब से मुतआरिफ़ करदा इस नए क़ानून के बाद सिर्फ़ वही स्पिनरस ख़ुद को मनवा सकते हैं जिन का मर्तबा आलमी मेयार का है, इसके बरअक्स दूसरे दर्जा के स्पिनरस मनफ़ी सोच में मुबतला होरहे हैं। जैय वर्धने जिन्होंने 388 वनडे मुक़ाबलों में श्रीलंका की नुमाइंदगी की है,

इस नए क़ानून के मुतआरिफ़ किए जाने के बाद स्पिनरस विकटों के हुसूल में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं क्योंकि 30 गज़ के दायरे के बाहर सिर्फ़ चार खिलाड़ी ही मौजूद रहते हैं, इन हालात में स्पिनरस सीधी और तेज़ गेंदें डालते हुए अपना ओवर पूरा करने पर तवज्जु मर्कूज़ कररहे हैं। याद रहे कि पाँच वनडे मुक़ाबलों की सीरीज़ में इतवार को एडीलेड में मुनाक़िदा मुक़ाबले में कामयाबी के ज़रीये श्रीलंका ने सीरीज़ को 1-1 से बराबर करली है।

TOPPOPULARRECENT