Wednesday , August 23 2017
Home / Hadis Shareef / बगैर हिसाब के जन्नत

बगैर हिसाब के जन्नत

हजरत अबू अमामा रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) फरमाया, मेरे रब ने मुझ से वादा फरमाया है के, मेरी उम्मत की कसीर (जियादा) तादाद को किसी हिसाब वो अज़ाब के बगैर जन्नत में दाखिल करेगा। (मिश्कात)

TOPPOPULARRECENT