Tuesday , October 17 2017
Home / Crime / बच्चों के घर में नाबालिग़ लड़कीयों की इस्मत रेज़ि ख़ाती गिरफ़्तार, बच्चों के घर का इंचार्ज मुअत्तल

बच्चों के घर में नाबालिग़ लड़कीयों की इस्मत रेज़ि ख़ाती गिरफ़्तार, बच्चों के घर का इंचार्ज मुअत्तल

एक सदमा अंगेज़ वाक़िया में बच्चों के घर में 3 नाबालिग़ लड़कीयों की एक चपरासी ने इस्मत रेज़ि की, जिसकी वजह से उसे गिरफ़्तार कर लिया गया और बच्चों के घर के सुप्रीटेंडेंट को मुअत्तल कर दिया गया। मुकम्मल तौर पर सदमा का शिकार इलहाबाद हाइकोर्

एक सदमा अंगेज़ वाक़िया में बच्चों के घर में 3 नाबालिग़ लड़कीयों की एक चपरासी ने इस्मत रेज़ि की, जिसकी वजह से उसे गिरफ़्तार कर लिया गया और बच्चों के घर के सुप्रीटेंडेंट को मुअत्तल कर दिया गया। मुकम्मल तौर पर सदमा का शिकार इलहाबाद हाइकोर्ट में अज़खु़द कार्रवाई करते हुए एक हिदायत जारी की ताकि एक मिसाली रुकावट पैदा करने वाला पैग़ाम मिल सके।

तीनों लड़कीयां सरकारी ज़ेर-ए-इंतज़ाम बच्चों के घर में मुक़ीम थीं, जो शैव कर्ती पुलिस स्टेशन की हदूद में वाक़्य है, जहां उन लड़कीयों की 50 साला चपरासी विद्या भूषण ओझा ने इस्मत रेज़ि की, जिसे कल रात गिरफ़्तार कर लिया गया। ये मरहला एक 6 साला लड़की के ज़रीया जो बच्चों के घर में मुक़ीम है, मंज़र-ए-आम पर आया, जिस को एक मुक़ामी जोड़े ने गोद लिया है।

इस जोड़े ने मतबनी बच्ची के साथ बातचीत के दौरान इस होलनाक वाक़िया के इशारे पाए जो बच्चों के घर में पेश आया था। उन्होंने इसकी इत्तिला सुप्रीटेंडेंट उर्मिला गुप्ता को दी, जिस ने ओझा के ख़िलाफ़ एफ़ आई आर दर्ज करवाया। ओझा की गिरफ़्तारी के बाद मुबय्यना तौर पर इस ने एतराफ़ कर लिया है कि वो तीनों बच्चीयों पर जिन्सी हमला करने का ख़ाती है। इस एतराफ़ के बाद तीनों लड़कीयों की इस ने शनाख़्त भी करली। इन तमाम की उमरें 8 और 12 साल के दरमयान है, जिन्हें तिब्बी मुआइना के लिए रवाना किया गया, से साबित हो गया कि इनकी इस्मत रेज़ि की गई है।

ज़िलई प्रोविजनरी ऑफीसर ईला पंत ने वाक़िया का सख़्त नोट लिया और सुप्रीटेंडेंट उर्मिला गुप्ता को आज फ़राइज़ से लापरवाही बरतने और ओझा को बरतरफ़ करने के सिलसिला में मुअत्तल कर दिया गया है। एक तीन रुकनी कमेटी ज़िला मजिस्ट्रेट अनील कुमार ने तशकील देते हुए हुक्म दिया कि वाक़्या की तहक़ीक़ात की जाए और मज़ीद कार्रवाई के लिए रिपोर्ट पेश की जाए।

दरीं असना इलाहाबाद हाइकोर्ट की एक डीवीजन बंच ने जो जस्टिस अमर सरन और जस्टिस अशोक श्रिवास्तव पर मुश्तमिल है। इस वाक़्या का अज़खु़द नोट लेते हुए हुक्म दिया कि इस मुआमला को अवामी मुफ़ाद की फ़ौजदारी दरख़ास्त तसव्वुर किया जाए और तब्सीरा किया कि हमें भरपूर सदमा पहुंचा है।

TOPPOPULARRECENT