Friday , October 20 2017
Home / Bihar News / बच्चों के साथ जिंसी इस्तेहाल के मामले में फादर टेरेसा मुजरिम करार

बच्चों के साथ जिंसी इस्तेहाल के मामले में फादर टेरेसा मुजरिम करार

वैशाली के चकवाजा गांव में अनाथा आश्रम चला रहे प्रद्युम्न कुमार उर्फ फादर टेरेसा को हाजीपुर अदालत ने बच्चों के साथ जिंसी इस्तेहाल के मामले में मुजरिम करार दिया है। सजा पर जुमेरात को सुनवाई की जाएगी। बुध को एडीजे वन बीके त्रिपाठी

वैशाली के चकवाजा गांव में अनाथा आश्रम चला रहे प्रद्युम्न कुमार उर्फ फादर टेरेसा को हाजीपुर अदालत ने बच्चों के साथ जिंसी इस्तेहाल के मामले में मुजरिम करार दिया है। सजा पर जुमेरात को सुनवाई की जाएगी। बुध को एडीजे वन बीके त्रिपाठी ने उसे प्रोटेक्शन आॅफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस एक्ट (पास्को) के तहत मुजरिम ठहराया। वह लोकसेवा नाम से आश्रम चलाता था।

प्रद्युम्न आश्रम के बच्चों के साथ जिंसि इस्तेहाल करता था। लड़कियों को भी उसने हवस का शिकार बनाया था। इस मामले में एक साल तक सुनवाई चली। कुल पंद्रह गवाह पेश किए गए। प्रद्युम्न के करतूतों का खुलासा गुजिशता साल 23 अक्टूबर को तब हुआ जब आश्रम के 37 बच्चे एक-एक कर बीमार हो गए। एक बच्चे की मौत भी हो गई थी।

डीएम के हुक्म पर हुई जांच में आश्रम के ऊपरी तल्ले पर छोटे-छोटे बच्चों को बंद पाया गया था। छापेमारी कर बच्चों को आज़ाद कराया गया था। बाद में बच्चों ने डीएम और एसपी को प्रद्युम्न के बारे में चौंकाने वाली जानकारी दी थी।

TOPPOPULARRECENT