Sunday , July 23 2017
Home / Assam / West Bengal / बलूचिस्तान और कश्मीर से संबंधित तारिक फतेह के प्रोग्राम को क्लब ने जगह देने से किया इनकार

बलूचिस्तान और कश्मीर से संबंधित तारिक फतेह के प्रोग्राम को क्लब ने जगह देने से किया इनकार

कोलकाता: कोलकाता शहर में एक ग्रूप को कश्मीर और बलूचिस्तान में रिफ्यूजी समस्याओं पर सेमिनार करने की अनुमति देने से क्लब प्रशासन ने इंकार कर दिया है. कार्यक्रम आयोजक के अनुसार प्रशासन ने शहर में लॉ एंड ऑर्डर का हवाला देकर क्लब कार्यक्रम का हॉल नहीं देने का निर्देश दिया है। इस प्रोग्राम में तारिक फतेह भी भाग ले रहे थे जो भाजपा के समर्थक हैं.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ नेटवर्क समूह प्रदेश 18 के अनुसार “सवाधीकार बांग्ला फाउंडेशन” ने कश्मीरी रिफ्यूजी समस्याओं पर सेमिनार के लिए हॉल बुक किया था. ऑर्गनाइजर रिटायर्ड कर्नल दीपांत्शु चौधरी ने कहा कि इस संगोष्ठी का उद्देश्य कश्मीर और बलूचिस्तान के मुद्दे से लोगों को आगाह करना था। मगर अचानक क्लब ने कहा कि कार्यक्रम से कश्मीर शब्द खत्म किया जाए और दो स्पीकर के नाम हटाए जाएं मगर हमने कहा कि यह संभव नहीं है। इसके बाद ही क्लब ने कहा कि चूंकि पुलिस प्रशासन कश्मीर के मुद्दे पर कार्यक्रम की अनुमति देने के पक्ष में नहीं है, इसलिए कार्यक्रम रद्द किया जाता है क्योंकि इस शहर में शांति की समस्या पैदा हो सकता है।

इस कार्यक्रम में स्पीकर की हैसियत से डॉ तारिक फतह जो पाकिस्तानी मूल के कनेडाइ नागरिक हैं. लेफ्टिनेंट जनरल सेवानिवृत्त जे एम मुखर्जी, मेजर जनरल (रिटायर्ड) जी डी बख्शी, सुशील पंडित, आरिफ मोहम्मद खान और अभिजीत भट्टाचार्य के नाम शामिल थे। कर्नल सेवानिवृत्त दीपांत्शु चौधरी ने कहा कि क्लब प्रशासन ने अपनी तरह का अनूठा कार्यक्रम को रद्द कर दिया जबकि यह व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर सीधा हमला है. लोगों को कश्मीर और बलूचिस्तान से संबंधित जानकारी प्राप्त करने का अधिकार है। इन दोनों मुद्दों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उठाया था।

दूसरी ओर कोलकाता पुलिस ने इस पूरे मामले से इनकार किया है.ऐडीशनल कमिश्नर ऑफ पुलिस ने कहा कि क्लब ने अनुमति मांगी थी मगर बाद में खुद कहा कि कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है. इसलिए कलकत्ता पुलिस को अनुमति देने और नहीं देने का कोई मौका नहीं मिला है। उल्लेखनीय है कि आयोजकों का भाजपा से गहरी संबंध है.

TOPPOPULARRECENT