Saturday , October 21 2017
Home / India / बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन क़ौमी सयानत के लिए अहम

बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन क़ौमी सयानत के लिए अहम

बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन को हिन्दुस्तान की क़ौमी सलामती के लिए अहम क़रार देते हुए सदर जम्हूरिया प्रण‌ब मुख‌र्जी ने आज कहा कि ये स्टेशन एक पहल का हिस्सा है जिस के ज़रीये दिफ़ाई अफ़्वाज की सलाहीयत में क़ौमी सयान्ती मुफ़ादात के तहफ़्फ़ुज़ के

बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन को हिन्दुस्तान की क़ौमी सलामती के लिए अहम क़रार देते हुए सदर जम्हूरिया प्रण‌ब मुख‌र्जी ने आज कहा कि ये स्टेशन एक पहल का हिस्सा है जिस के ज़रीये दिफ़ाई अफ़्वाज की सलाहीयत में क़ौमी सयान्ती मुफ़ादात के तहफ़्फ़ुज़ के लिए इज़ाफ़ा किया जा रहा है।

स्टेशन का संग-ए-बुनियाद रखने के बाद ख़िताब करते हुए सदर जम्हूरिया ने कहा कि ये उन के लिए एक अज़ीम मौक़ा है कि वो बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन का ख़ाब हक़ीक़त बनने की सिम्त पहले क़दम का मुशाहिदा कररहे हैं। उन्होंने कहा कि बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन एहमियत रखता है क्योंकि ये एक एसी पहल है जिसका मक़सद दिफ़ाई अफ़्वाज की क़ौमी सयान्ती मुफ़ादात के तहफ़्फ़ुज़ की सलाहीयत में इज़ाफ़ा है।

उन्होंने कहा कि ये नज़रिया उन्हें बेहद अज़ीज़ है। प्रण‌ब मुख‌र्जी जांगी पुर लोक सभा हल्क़ा-ए‍-इंतेख़ाब की नुमाइंदगी करते थे जो ना बागराम और दीगर मज़ाफ़ाती इलाक़ों पर मुश्तमिल है। उन्होंने कहा कि इस स्टेशन से अतराफ़ के इलाक़ों के अवाम की मआशी तरक़्क़ी और ख़ुशहाली में भी इज़ाफ़ा होगा।

उन्होंने वज़ीर-ए-दिफ़ा ए के अनटोनी, फ़ौज की सीनियर क़ियादत और विज़ारत-ए-दिफ़ा की कोशिशों की सताइश की जिन्होंने क़ौमी एहमीयत के इस प्रोजेक्ट‌ को हक़ीक़त का रूप दिया है। सदर जम्हूरिया ने हुकूमत मग़रिबी बंगाल और इलाक़ाई अवाम की भी सताइश की जिन्होंने इस प्रोजेक्ट‌ के लिए खुले दिल से मदद दी है।

खासतौर पर अराज़ी की फ़राहमी के सिलसिले में उनकी मदद क़ाबिल-ए-तारीफ़ है। उन्होंने निशानदेही की कि ये मुक़ाम क़ौमी और तारीख़ी एतबार से भी एहमीयत रखता है। मुर्शिदाबाद एक ऐसा मुक़ाम है जहां सदीयों क़बल अहम वाक़ियात पेश आए थे। ये एक बड़ा मर्कज़ इक़तिदार था।

सत्रहवीं और अठारवीं सदी ईसवी में सिराज अलद विला के दौर‍ में मुर्शिदाबाद को इंतिहाई एहमीयत हासिल थी। मशहूर जंग प्लासी जिस के ज़रीया बर्तानवियों ने इस इलाक़े का इक़तेदार छीन लिया था और इस के बाद पूरे मुल्क को 60 साल तक इस इलाक़े के लिए जद्द-ओ-जहद करनी पड़ी थी।

सदर जम्हूरीया ने कहा कि ये इलाक़े इंतेहाई एहमीयत रखता है। उन्होंने हिन्दुस्तानी फ़ौज की मशरिक़ी कमान की सताइश की जिन्होंने शहरीयों, इंतेज़ामीया और आबादी के साथ बेहतरीन रवाबित बरक़रार रखे हैं। उन्होंने फ़ौजीयों से भी तबादला-ए-ख़्याल किया जो इस तक़रीब में शिरकत के लिए कसीर तादाद में मौजूद थे।

बहरामपुर फ़ौजी स्टेशन में कंटोनमैंट की तामीर के लिए सरमायाकारी और मुताल्लिक़ा इनफ्रास्ट्रक्चर के क़ियाम के लिए सरमायाकारी भी शामिल है और इस से रोज़गार के मवाक़े में इज़ाफ़ा होगा। मुक़ामी मईशत और मुक़ामी आबादी की ख़ुशहाली में इज़ाफ़ा होगा।

TOPPOPULARRECENT