Wednesday , June 28 2017
Home / Islami Duniya / बांग्लादेश ने किया रोहिंग्या मुस्लिमों को वीरान द्वीप पर बसाने का फ़ैसला

बांग्लादेश ने किया रोहिंग्या मुस्लिमों को वीरान द्वीप पर बसाने का फ़ैसला

ढाका: बांग्लादेश ने पड़ोसी देश म्यांमार से आने वाले असंख्य रोहिंग्या मुस्लिम प्रवासियों को एक ऐसे वीरान जजीरे पर बसने का फैसला किया है, जो इंसानों के रहने के लिए मुनासिब नहीं और जहां हमेशा बाढ़ का खतरा रहता है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार सारी अलर्ट के बावजूद ढाका सरकार ने रोहिंग्या मुसलमानों को इस दूर दराज़ जजीरे पर बसाने के विवादास्पद निर्णय को व्यावहारिक रूप देने का संकल्प किया है। बताया गया है कि सरकार ने इस संबंध में तटीय जिलों के अधिकारियों से मिलकर एक समिति बना दी है। साथ ही सरकारी अधिकारियों को आदेश जारी किए गए हैं कि वह म्यांमार के गैर पंजीकृत नागरिकों की पहचान और उन्हें बंगाल की खाड़ी के थिंगरचार नामक द्वीप पर बसने में मदद करें।

कैबिनेट डिवीजन की ओर से पिछले सप्ताह जारी किए गए और ऑनलाइन पोस्ट किए गए एक आदेश पत्र में कहा गया है: कि ” समिति म्यांमार से आए पंजीकृत और गैर पंजीकृत शरणार्थियों को जिला नवाखुली में हातिया द्वीप के पास थिंगरचार नामक द्वीप पर आबाद करने में मदद करेंगे। ”यह द्वीप मेघना नदी के कगार पर स्थित है और इन शिविरों से नौ घंटे की दूरी पर है, जहां रोहिंग्या प्रवासियों ने आजकल शरण ले रखी है।

लगभग दो लाख बत्तीस हजार रोहिंग्या मुसलमान पहले से बांग्लादेश में रह रहे थे, जबकि पिछले साल अक्टूबर से अधिक रोहिंग्या म्यांमार के पश्चिमी राज्य राखेन में होने वाली हिंसक कृत्यों से तंग आकर पड़ोसी बांग्लादेश में प्रवेश करना शुरू किया।

बांग्लादेशी अधिकारियों से म्यांमार के ऐसे नागरिकों का पता लगाने के लिए भी कहा गया है, जो ‘अवैध रूप से देश में प्रवेश किया है। सरकारी फरमान में जिस पर छब्बीस जनवरी की तारीख दर्ज है, कहा गया है, कि ” इस बात को सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वे (प्रवासियों) देश में फैल न जाएं और स्थानीय आबादी में न घुलें मिलें। ‘ इस आदेश के अनुसार, ” जो प्रवासी विशिष्ट क्षेत्रों से बाहर जाने की कोशिश करे, उन्हें वापस शिविरों में भेज दिया जाए या गिरफ्तार कर लिया जाए। ”

बांग्लादेश में रोहिंग्या मुसलमानों को इस वीरान द्वीप पर बसाने के बारे में विचार 2015 से जारी है हालांकि रोहिंग्या समुदाय के नेताओं और संयुक्त राष्ट्र की ओर से भी ऐसी आपत्तियां सामने आ चुके हैं कि अब इस द्वीप पर इन्सानी जीवन मुमकिन नहीं है और जबरन उन शरणार्थियों को वहां बसाना ‘बहुत ही जटिल और विवादास्पद प्रक्रिया’ होगा। अन्य सूत्रों के अनुसार छह हजार एकटड़ क्षेत्र में फैला यह द्वीप समुद्री डाकुओं का चारागाह है और वहाँ पहुँचना केवल सर्दियों में ही संभव है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT