Tuesday , October 17 2017
Home / India / बाएं बाज़ू की पालिसियों पर नज़र-ए-सानी ज़रूरी

बाएं बाज़ू की पालिसियों पर नज़र-ए-सानी ज़रूरी

लोक सभा इंतिख़ाबात में मग़रिबी बंगाल में सी पी एम की क़ियादत वाले बाएं बाज़ू महाज़ के तक़रीबन‌ सफाया के बाद बाएं बाज़ू की जमातों का एहसास है कि कमीयूनिस्ट जमातों को मौजूदा क़ियादत में तबदीली की जाये पॉलीसी में तब्दीलियों पर ग़ौर करना चाह

लोक सभा इंतिख़ाबात में मग़रिबी बंगाल में सी पी एम की क़ियादत वाले बाएं बाज़ू महाज़ के तक़रीबन‌ सफाया के बाद बाएं बाज़ू की जमातों का एहसास है कि कमीयूनिस्ट जमातों को मौजूदा क़ियादत में तबदीली की जाये पॉलीसी में तब्दीलियों पर ग़ौर करना चाहिए।

आर एस पी के रियासती सेक्रेटरी कशती गोस्वामी ने कहा कि हम सिर्फ़ चंद शहरों को तब्दील करने में यक़ीन नहीं रखते। इससे कोई मदद नहीं मिलेगी। ज़रूरत इस बात की है कि पालिसियों पर नज़र-ए-सानी की जाये जो हम इख़तियार किए हुए हैं। हम को ये देखने की ज़रूरत है कि पॉलीसी के मुआमला में हम से कहाँ ग़लती हुई है।

हालिया इंतिख़ाबात में शिकस्त के बाद से सी पी एम में मुसलसल मांग‌ किया जा रहा है कि पार्टी की क़ियादत में तबदीली की जाये। पार्टी से ख़ारिज करदा कुछ क़ाइदीन भी क़ियादत पर तन्क़ीदें कर रहे हैं। इनका मांग‌ है कि पार्टी को रियासत की सियासत में मुकम्मल सफाए से बचाने के लिए ज़रूरी है कि क़ियादत को तब्दील करदिया जाये।

बाएं बाज़ू महाज़ की दूसरी जमाअतें जैसे फ़ारवर्ड बलॉक को भी अपनी क़ियादत में तबदीली के मुतालिबा का सामना है। फ़ारवर्ड बलॉक लीडर नारैण चटर्जी ने कहा कि हम को देखना चाहिए कि ग़लती कहाँ हुई है। उनके ख़्याल में क़ियादत की तबदीली से कोई फ़ायदा होने की उम्मीद नहीं है। ताहम सी पी एम से ख़ारिज करदा लीडर अब्दूर्रज़्ज़ाक़ का कहना है कि जब तक क़ियादत में तबदीली नहीं की जाती उस वक़्त तक बाएं बाज़ू महाज़ की इंतिख़ाबी क़िस्मत में तबदीली नहीं होसकती।

बाएं बाज़ू महाज़ को अमल में लाने क़ियादत में तबदीली ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि मौजूदा क़ियादत बुरी तरह नाकाम होचुकी है ऐसे में बाएं बाज़ू की तहरीक बंगाल में किस तरह से आगे बढ़ पाएगी। इसके लिए क़ियादत को बदलना ज़रूरी होगया है।

TOPPOPULARRECENT