Sunday , October 22 2017
Home / World / बाण की मून की सूडान और जुनूबी सूडान से अबीई से तख़लिया की दरख़ास्त

बाण की मून की सूडान और जुनूबी सूडान से अबीई से तख़लिया की दरख़ास्त

अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के जनरल सिक्रेटरी बाण की मून ने सूडान और जुनूबी सूडान से मुतनाज़ा अबीई इलाक़ा से अपनी फ़ौज और पुलिस को वापिस बुलाने की दरख़ास्त की है।ज़रख़ीर अबीई इलाक़ा में सूडान और जुनूबी सूडान दोनों ही अपना दावा पेश करते

अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के जनरल सिक्रेटरी बाण की मून ने सूडान और जुनूबी सूडान से मुतनाज़ा अबीई इलाक़ा से अपनी फ़ौज और पुलिस को वापिस बुलाने की दरख़ास्त की है।ज़रख़ीर अबीई इलाक़ा में सूडान और जुनूबी सूडान दोनों ही अपना दावा पेश करते रहे हैं। सूडान ने पिछले साल मई में इस इलाक़ा पर क़बज़ा करलिया था जिस के बाद बड़ी तादाद में लोग वहां से हिज्रत कर गए थे।

गुज़शता दो महीने से वहां जंग जैसी सूरत-ए-हाल पैदा होगई है। मिस्टर मून ने बुध के रोज़ सलामती कौंसल में एक रिपोर्ट पेश करते हुए कहा कि अबीई इलाक़ा में गै़रक़ानूनी सिक्योरिटी दस्तों की ताय्युनाती मुसबत बातचीत में हाइल है। मैं दोनों मुल्कों की हुकूमतों से वहां से फ़ौज और पुलिस को हटाने की दरख़ास्त करता हूँ। जुनूबी सूडान गुज़शता साल इस्तिसवाब-ए-राए के छः महीने बाद जुलाई में वजूद में आया था।

2005 मैं हुए अमन मुआहिदे के तहत सूडान जुनूबी सूडान में इस्तिसवाब-ए-राए पर राज़ी हुआ था जिस से दहाईयों से जारी तशद्दुद का ख़ातमा हुआ था। अबीई में भी इस इस्तिसवाब-ए-राए होना था लेकिन दोनों फ़रीक़ों में इत्तिफ़ाक़ क़ायम नहीं होसका था। सलामती कौंसल ने गुज़शता साल जून में अबीई इलाक़ामें अक़वाम-ए-मुत्तहिदा की अमन फ़ौज को वहां ताय्युनात करने की मंज़ूरी दी थी जिस के बाद 3800 फ़ौजी को ताय्युनात किया गया था।

TOPPOPULARRECENT