Friday , October 20 2017
Home / Hyderabad News / बातचीत की मंसूख़ी से पाकिस्तान को पैग़ाम

बातचीत की मंसूख़ी से पाकिस्तान को पैग़ाम

बी जे पी के सदर अमीत शाह ने कहा कि मोदी हुकूमत ने ख़ारिजा की सतह पर मुक़र्ररा बातचीत को मंसूख़ करते हुए पाकिस्तान को ये पैग़ाम भेज दिया हैके उस वक़्त तक बाहमी बातचीत नहीं होसकती जब तक वो (पाकिस्तान ) हिंदुस्तानी खास्कर कश्मीरी अलहिदगी पस

बी जे पी के सदर अमीत शाह ने कहा कि मोदी हुकूमत ने ख़ारिजा की सतह पर मुक़र्ररा बातचीत को मंसूख़ करते हुए पाकिस्तान को ये पैग़ाम भेज दिया हैके उस वक़्त तक बाहमी बातचीत नहीं होसकती जब तक वो (पाकिस्तान ) हिंदुस्तानी खास्कर कश्मीरी अलहिदगी पसंदों के साथ बातचीत में मसरूफ़ रहता है।

अमीत शाह ने कहा कि जैसा कि वो हमेशा किया करता है पाकिस्तान ने इस मर्तबा भी (मोतमिदिन ख़ारिजा की सतह पर बातचीत से पहले) अलहिदगी पसंदों को दावतनामा भेजा था लेकिन किसी भी हुकूमत ने उस को रोकने की हिम्मत नहीं की थी।

मोदी हुकूमत ने पाकिस्तान को ये पैग़ाम भेज दिया हैके अगर आप अलहिदगी पसंदों से बातचीत करना चाहते हैं तो फिर हिंदुस्तान से बातचीत नहीं कर सकेंगे।

में फ़ख़र के साथ कह सकता हूँ कि ये सिर्फ़ एक बी जे पी के वज़ीर-ए-आज़म ही कह सकते हैं। अमीत शाह ने कहा कि बिलकुल इसी तरह हुकूमत ने आलमी तिजारती तंज़ीम ( डब्लयू टी ओ ) के मुजव्वज़ा समझौते को क़बूल ना करने का फ़ैसला किया कयुंकि ये मुल्क के किसानों के मुफ़ादात के ख़िलाफ़ है। उन्होंने कहा कि हुकूमत ने सफ़ाई , बैत उल-ख़ला की तामीर-ए-मुल्क में सनअती पैदावार के फ़रोग़ जैसी नई मुहिम शुरू की है।

बी जे पी के सदर अमीत शाह यहां तेलंगाना में अपने पार्टी के देही यूनिटों के सदर से ख़िताब कर रहे थे। उन्होंने दावे किया कि समाज के मुख़्तलिफ़ तबक़ात आज बी जे पी और मोदी की क़ियादत की सिम्त देख रहे हैं।

उन्होंने पार्टी कारकुनों पर ज़ोर दिया कि वो अवाम तक पहूंचें और पार्टी को पोलिंग बूथ सतह तक वुसअत दें। अमीत शाह ने अपने यक़ीन का इज़हार किया कि अगर बी जे पी क़ाइदीन और कारकुन रियासत में अपनी पार्टी को मुस्तहकम बनाईं तो 2019 के चुनाव में बी जे पी तेलंगाना में बरसर-ए-इक्तदार आएगी। अमीत शाह ने कहा कि तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, टामिलनाडु , केराला , आसाम , मग़रिबी बंगाल और मुल्क की मशरिक़ी रियासतों में बी जे पी को मुस्तहकम बनाने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT