Wednesday , September 20 2017
Home / Bihar News / बाप बेटा गिरोह : बाप लेता था सुपारी, बेटा किया करता था कत्ल

बाप बेटा गिरोह : बाप लेता था सुपारी, बेटा किया करता था कत्ल

पटना : बिहार झारखंड का दहशत माना जाने वाला मनोज को पटना पुलिस ने सनीचर को गिरफ्तार कर लिया है। मनोज कत्ल की सुपारी लिया करता था और उसका बेटा कत्ल को अंजाम दिया करता था। पुलिस ने बाप बेटे गिरोह के 5 और शूटरों को भी गिरफ्तार किया है। कत्ल, यरगमाल, डकैती व रंगदारी जैसे 24 मुजरिमाना वारदातों को अंजाम देकर नौबतपुर-बिहटा का दहशत बन चुके कुख्यात मनोज सिंह को उसके पांच गुर्गों के साथ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जुर्म की दुनिया में साल 2004 से मनोज सरगर्म है।

सितंबर, 2015 में जिला काउंसिलर कविता देवी के शौहर लुलन शर्मा की नौबतपुर पोस्ट ऑफिस के पास सरेशाम कत्ल करने के बाद उसका दहशत उरोज पर पहुंच गया। पुलिस हेड क्वार्टर ने उस पर 25 हजार का इनाम भी एलान कर रखा था। जुमा को बिक्रम इलाके में उसके पहुंचने की इत्तिला पर पुलिस ने पुख्ता घेराबंदी कर उसे धर दबोचा। उसके पास से 1 कार्बाइन, 3 पिस्टल, 1 रायफल व 50 गोलियां बरामद की गईं। पकड़े गए गुर्गों में मनोज का बेटा आदित्य उर्फ मानिक भी शामिल है। दीगर की शिनाख्त मनीष उर्फ बबलू (नौबतपुर), मन्चु मुचकुना उर्फ अभिषेक कुमार (चिचोस), सुशील कुमार (चिचोस) और विकास कुमार (नौबतपुर) के तौर में की गई है।

मनोज ने झारखंड में दो वारदातों को अंजाम दिया है। जमशेदपुर के जुबली पार्क के पास ठेकेदार रामसकल यादव को गोलियों से छलनी कर दिया था। इस कांड के बाद झारखंड पुलिस को भी उसकी तलाश थी। नौबतपुर में अपना दबदबा कायम करने के लिए मनोज ने लुलन शर्मा को दरमियान बाजार में गोलियों से छलनी कर दिया था। बाजार समिति पर लुलन का कब्जा था। इस कत्ल के बाद नौबतपुर से उसे रंगदारी मिलने लगी थी। बाजार समिति पर भी उसने एक तरह से कब्जा कर लिया था।

मनोज अपने 18 साला बेटे को साथ रखता था। वारदात के वक्त भी मानिक उसके साथ ही रहता था। विक्रम में जब पुलिस ने मनोज को दबोचा उस वक्त भी मानिक साथ ही था। मनोज ने करोड़ों रुपए रंगदारी से कमाए। उसे रंगदारी देनेवालों में झारखंड के भी कारोबारी थे। उसके नाम जमशेदपुर से 1 करोड़ रुपए रंगदारी वसूलने तथा नौबतपुर के सोने के कारोबारी से 2 लाख रुपए रंगदारी लेने का पुलिस रिकॉर्ड है। उसके गिरोह से जुड़े मुजरिम चौक-चौराहों पर हवाई फायरिंग व पिस्तौल लहराकर दहशत मचाते थे। लूट-डकैती भी गिरोह करता था।
जमीन तनाजे में वालिद की कत्ल के बाद उसने 2004 में जुर्म का सफर शुरू किया था। अब तक दो दर्जन वारदात उसके नाम दर्ज हो चुके हैं। नौबतपुर के शंभुकुरा गांव में उसका अहले खाना रहता था। उसने दो शादियां की थीं। पहली बीवी टीचर है। जबकि 2011 में उसने शादी किया था। उसकी एक बेटी भी है, जो गांव में ही रहकर पढ़ाई करती है। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि मनोज की गिरफ्तारी बड़ी कामयाबी है। गिरोह के दीगर मुजरिमों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। बिहार-झारखंड तक उसने नेटवर्क बना लिया था।

 

TOPPOPULARRECENT