Tuesday , October 17 2017
Home / Bihar/Jharkhand / बालूमाथ कांड : भगवा तंजीमें हैं जिम्मेदार, सरकार दे 50 लाख का मुआवजा : वृन्दा करात

बालूमाथ कांड : भगवा तंजीमें हैं जिम्मेदार, सरकार दे 50 लाख का मुआवजा : वृन्दा करात

बालूमाथ :माकपा पोलित ब्योरो वृन्दा करात ने बालूमाथ दोहरे हत्याकांड के मुतासिर परिवारों से आज मिली व अपनी संवेदना ज़ाहिर की । परिजनो से मिलने के दौरान सहाफ़ियों से बात करते हुए उन्होनें कहा कि जुमा को बालूमाथ के झाबर में हुए दो जानवरों के कारोबारियों की क़त्ल का जिम्मेवार सीधे तौर पर संघ परिवार और उसके दीगर तंज़ीम है। राज्य व केन्द्र सरकार संघ के एजेन्डे पर काम कर रही है। जब से मोदी हुकूमत में आए है समाज में फिरकावाराना तशद्दुद का बोलबाला बढ़ गया है। वृन्दा करात ने इस दोहरे हत्याकांड की कड़ी मज़्मज़त करते हुए सरकार से मृतक के परिवार को पच्चास लाख मुआवजा व सरकारी नौकरी और हाईकोर्ट के देखरेख में एसआईटी तशकील कर जांच करने की मांग की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार व केन्द्र सरकार के दबाव में इन्तेज़ामिया की तरफ से मामले को हल्का कर दिखाया जा रहा है, जबकि यह विशुद्ध रूप से जानवर कारोबारी की क़त्ल है। उन्होंने कहा कि किसी भी संविधान में किसी भी जाति या धर्म के लोगों की क़त्ल का ईजाजत नहीं देती है। ऐसे मुजरिमों को प्रशासन कड़ी से कड़ी सजा दे, ताकि मुस्तक़बिल में इस तरह की वाकिया दुबारा ना हो। उन्होंने दादरी घटना का जिक्र करते हुए इस हत्याकांड को उससे भी संगीन बताया। वृन्दा करात घटना की पूरी जानकारी पीड़ित परिवार से लिया और इन्साफ मिलने तक आगे की लड़ाई जारी रखने की बात कही साथ ही अंजुमन इस्लामिया रांची के सेक्रेटरी मुख़्तार अहमद ने इस वाकिया की सख्त मज़मत की और मुतासिर परिवार को इन्साफ दिलाने की यकीन दिहानी दी। उन्होंने सीबीआई जाँच की भी मांग की। माले के राजधनवार के विधायक राजकुमार यादव व प्रदेश सचिव जनार्दन प्रसाद की क़यादत में भाकपा माले का एक प्रतिनिधिमंडल आज बालूमाथ का दौरा किया। माले नेताओं ने नवादा व आराहरा गांव में जाकर मृतक के परिवार से मिलकर दोहरे हत्याकांड की निंदा की व दोनों परिवारों को संतावना देते हुए सरकार से उचित मुआवजा व सरकारी नौकरी देने की मांग की।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

विधायक राजकुमार यादव ने कहा कि इस तरह की घटना झारखंड के माथे पर कलंक है। जिस राज्य में 12 साल का बच्चा सुरक्षित नहीं रहे, वैसे सरकार को बने रहने का अधिकार नहीं है। माले पीड़ितत परिवार की इस लड़ाई को सदन से सड़क तक लड़ने का संकल्प लिया। इस अवसर पर युगलपाल, रविन्द्र भुईयां, अनील अंसुमन, धीरज कुमार, सरफराज आलम, माले के पलामू सचिव आरएन सिंह, आरबी सिंह समेत कई लोग शामिल थे। अंजुमन इस्लामिया रांची से जाने वाले में जॉइंट सेक्रेटरी मो, नौशाद, शहज़ाद , नवाब, ज़ाहिद तनवीर अहमद भी शामिल थे।IMG-20160322-WA0013

TOPPOPULARRECENT