Thursday , September 21 2017
Home / Bihar/Jharkhand / बालूमाथ क़त्ल मामला : एसेम्बली से सड़क तक की लड़ाई लड़ेंगे : बाबूलाल मरांडी

बालूमाथ क़त्ल मामला : एसेम्बली से सड़क तक की लड़ाई लड़ेंगे : बाबूलाल मरांडी

बालूमाथ: लीडर मजलूम अंसारी और मो इम्तियाज के अहले खाना से मिले और उन्हें सांत्वना दी. साथ ही इक़्तेसादि मदद किया. जानवर के कारोबारी मजलूम और इम्तियाज की 17 मार्च की देर रात क़त्ल कर दी गयी थी. इस मामले में पुलिस ने फौरी कार्रवाई करके पांच मुलजिमों को सनीचर को गिरफ्तार कर लिया. बाबूलाल मरांडी ने दोनों मैयतों के अहले खाना को पार्टी फंड से 50-50 हजार रुपये देने का एलान किया. मालूम हो कि मजलूम की चार बेटी और एक बेटा है. जेवीएम सुप्रीमो के साथ जेवीएम एमएलए दल के लीडर प्रदीप यादव, मुकामी एमएलए प्रकाश राम, साबिक वजीर बंधु तिर्की भी थे. कातिलों की गिरफ्तारी और मुआवजे की मांग कर रहे थे लोग,तो चंदवा थाना इंचार्ज रतन कुमार सिंह ने उनसे बदतमीजी किया. मरांडी ने उनकी मांगों को जायज ठहराया और कहा कि वे सड़क से सदन तक उनकी लड़ाई लड़ेंगे. सरकार नहीं मानी, तो वे एसेम्बली भी घेरेंगे. मरांडी ने मामले की जांच सीबीआइ या एसआइटी से कराने की मांग की. कांग्रेस रियासती सदर भगत ने सरकार से मांग की कि मजलूम की बीवी को सरकारी नौकरी और 50 लाख रुपये मुआवजा दें.मजलूम की बीवी को भगत ने 20 हजार और हामिद मलिक ने 10 हजार रुपये की मदद दी.सुखदेव भगत ने कहा है कि झारखंड में जंगल राज का माहौल कायम हो गया है़ रियासत में कानून निजाम की कोई चीज नहीं है़.

कांग्रेस एमएए दल के लीडर आलमगीर आलम ने क़त्ल की मज्मत की़ मिस्टर आलम ने कहा है कि रियासत में कानून निजाम ठीक नहीं है.इसके लिए पूरी तरह रियासती सरकार जिम्मेदार है. झारखंड रियासती अकलियत के रियासती तर्जुमान केपी अहमद ने गवर्नर से सरकार को बरखास्त करने की मांग की़ उन्होंने कहा कि सरकार अपने नागरिकों को सिक्यूरिटी नहीं दे पा रही है. उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जानकारी अक्लियत कमीशन व कौमी मानवाधिकार आयोग को दी गयी है. मरांडी ने सरकार पर संगीन इलज़ाम लगाया. उन्होंने कहा कि ये वारदात सरकार के संरक्षण में हो रही हैं. सरकार असल मुद्दों से अवाम का ध्यान भटकाने के लिए ऐसे अपराध करवा रही है. वहीं, प्रदीप यादव ने कहा कि झारखंड में ऐसी वारदात का सिलसिला थम नहीं रहा है. साल 2014 में रियासत में महज 15 फिरकावाराना वारदात हुईं, लेकिन रघुवर दास की कियादत वाली सरकार के 15 महीने के मुद्दत में 55 फिरकावाराना वारदात घट चुकी हैं. इसमें 20 वारदात जानवर के कारोबार से जुड़ी हैं.

TOPPOPULARRECENT