Friday , October 20 2017
Home / India / बाल ठाकरे की यादगार को अंदरून 24 घंटे हटाने की नोटिस

बाल ठाकरे की यादगार को अंदरून 24 घंटे हटाने की नोटिस

मुंबई, 05 दिसंबर: (एजेंसी) वज़ीर-ए-आला महाराष्ट्रा पृथ्वी राज चौहान ने सिर्फ़ एक रोज़ क़बल मुंबई बलदिया को हिदायत की थी कि वो शिवा जी पार्क से बाल ठाकरे की आरिज़ी यादगार हटाने की मंसूबा बंदी करें। इस पर फ़ौरी अमल आवरी करते हुए म्यूनसिंप

मुंबई, 05 दिसंबर: (एजेंसी) वज़ीर-ए-आला महाराष्ट्रा पृथ्वी राज चौहान ने सिर्फ़ एक रोज़ क़बल मुंबई बलदिया को हिदायत की थी कि वो शिवा जी पार्क से बाल ठाकरे की आरिज़ी यादगार हटाने की मंसूबा बंदी करें। इस पर फ़ौरी अमल आवरी करते हुए म्यूनसिंपल कमिशनर सीताराम कुंटे ने मेयर सुनील प्रभु और राज्य सभा एम पी संजय रावत को एक नोटिस जारी की और इंतिबाह दिया कि अंदरून 24 घंटे अगर ठाकरे की आरिज़ी यादगार को हटाया नहीं गया तो इसके संगीन नताइज सामने आ सकते हैं।

याद रहे कि बहुजन लीडर यूनीयन आफ़ एजूकेटेड नामी ग़ैरमारूफ़ एन जी ओ ने बॉम्बे हाइकोर्ट में एक अर्ज़दाश्त दाख़िल करते हुए ठाकरे की आरिज़ी यादगार हटाए जाने का मुतालिबा किया था और इसी दरख़ास्त पर म्यूनसिंपल कमिशनर को हिदायत दी गई। आरिज़ी चबूतरे को 18 नवंबर को शिवा जी पार्क में बाल ठाकरे की आख़िरी रसूमात अंजाम देने के लिए तामीर किया गया था।

याद रहे कि शिवसेना की तशकील का ऐलान भी इसी तारीख़ी मैदान से किया गया था। आज़ादी के बाद से शिवा जी पार्क की तारीख़ में ये पहला वाक़िया है जहां किसी सयासी क़ाइद की आख़िरी रसूमात अंजाम दी गई हो जबकि संजय रावत ने वाज़िह तौर पर कह दिया हीका शिवसेना शिवा जी पार्क से ठाकरे की समाधि के लिए मुख़तस की गई जगह से हरगिज़ नहीं हटेगी।

इनका कहना है कि ठाकरे की चिता को जिस चबूतरे पर रख कर नज़र-ए-आतिश किया गया था वो अब समाधि बन चुकी है और वो मुक़ाम शिवसेना के लिए इतना ही मुक़द्दस है जितना कि अयोध्या का राम मंदिर। बाला साहब की यादगार क़ायम करने के लिए हम किसी और मुक़ाम का इंतिख़ाब (चयन) करेंगे लेकिन हुकूमत समाधि के मुक़ाम को हरगिज़ हाथ ना लगाए।

TOPPOPULARRECENT