Monday , August 21 2017
Home / Khaas Khabar / मेवात में पंचायतों का फ़ैसला, बकरीद पर गाय की कुर्बानी नहीं दी जाएगी

मेवात में पंचायतों का फ़ैसला, बकरीद पर गाय की कुर्बानी नहीं दी जाएगी

मेवात : मेवात में पंचायतों ने फ़ैसला किया है कि बकरीद पर गायों की कुर्बानी नहीं दी जाएगी. हरियाणा में गौमास रखने और गौमांस ले जाने पर पाबंदी है. कानून के मुताबिक गौहत्या पर तीन से दस साल तक की सज़ा का प्रावधान है. एक लाख तक जुर्माने का प्रावधान है. गौमास रखने और खाने पर तीन साल से लेकर सात साल तक की सज़ा का प्रावधान है.” हरियाणा गौसेवा आयोग के प्रमुख भनीराम मंगला ने कहा की आयोग का अध्यक्ष बनने के बाद से हरियाणा में काफी तब्दीलियां आई हैं.

भनीराम मंगला कहते हैं, “लोगों को बात समझ में आ गई है. पहले कानून की समझ नहीं थी. लोग अपने आप ही इस काम को छोड़ रहे हैं और सही लाइन पर आ रहे हैं.कई गांवों ने सरपंचों ने पंचायत की है कि ये अच्छा कानून है. अपने आप ही फ़ैसला कर रहे हैं कि कुर्बानी जो आ रही है उसमें गाय की कुर्बानी नहीं होगी. दहशत उन्हीं लोगों में हो सकती है जो बीफ का इस्तेमाल कर रहे होंगे. दूसरे लोगों को किसी प्रकार से डरने की ज़रुरत नहीं है. हम प्रशासन से भी कहेंगे कि सबका कॉन्फिडेंस बहाल किया जाए. किसी को बेवजह परेशान करने की बिल्कुल मंशा नहीं है. अनिल विज के मुताबिक जब भी सैंपल भरने की कार्रवाई होती है तब दो नमूने लिए जाते हैं. अगर कोई चुनौती देता है तो दूसरे नमूने की दूसरी लैब में जांच कराई जाती है.

TOPPOPULARRECENT