Wednesday , September 27 2017
Home / Bihar News / बिल क्लिंटन की गोद ली बच्ची को खाना भी नसीब नहीं

बिल क्लिंटन की गोद ली बच्ची को खाना भी नसीब नहीं

पटना : अमेरिका के सदर बिल क्लिंटन ने एक बच्ची रानी को गोद लिया था। उन्होंने कहा था कि इस बच्ची के पढ़ाई-लिखाइ के साथ-साथ सारा खर्च बिल क्लिंटन फाउंडेशन उठायेगा। अब इस बात को चार साल होने जा रहा हैं, लेकिन, न तो बिल क्लिंटन ने दोबारा रानी का हाल-चाल लिया और न ही कोई सहूलत ही उसे दी गयी है। जमसौत मुसहरी की रहने वाली रानी स्कूल जाने के लायक हो गयी है। लेकिन, उसके वालिदैन के पास इतने पैसे नहीं, जो उसे स्कूल में पढ़ा सके।

चार भाई बहनों में सबसे छोटी रानी को लेकर आसपास के लोग बातें बनाने लगे हैं. मां रूकनी देवी ने बताया कि जब विदेशी बाबू आये थे, तो मैं खेत में काम कर रही थी. वहां से मुझे बुलाया गया था. जब मैं आयी, तो उन्होंने अंग्रेजी में कुछ कहा. मुझे समझ में नहीं आया. उनके साथ जो आये थे, उन्होंने बताया कि विदेशी साहब रानी को गोद लेना चाह रहे हैं. फिर विदेशी साहब ने रानी के साथ फोटो भी खिंचवायी. मेरे घर के अंदर भी आकर उन्होंने फोटो खिंचवायी. सभी चले गये. कुछ दिया नहीं, लेकिन कहा कि इस बच्ची के भविष्य का सारा खर्च वो ही उठायेंगे. उसके बाद सब चले गये.

200 की आबादी वाले इस गांव में लोगों को अब भी क्लिंटन का इंतजार है। मजदूरी का काम कर रहे ज़्यादातर लोगों का कहना है कि पेपर में फोटो खिंचवाने के लिए लोग हमारे पास तो आते हैं। लेकिन, कोई मदद नहीं करता है। पांचवीं तक का एक सरकारी स्कूल है। एक हेल्थ सेंटर है, पर वहां कभी भी दवा नहीं मिलती है। मालूम हो कि अमेरिका के साबिक़ सदर बिल क्लिंटन ने इस गांव
में एक हेल्थ रिसर्च सेंटर खोलने की भी एलान की थी। लेकिन, हेल्थ रिसर्च सेंटर तो दूर, यहां कोई सहूलत नहीं है।

इस मुसहरी गांव में मैं गुजिशता 21 साल से काम कर रही हूं। इस गांव में इंदिरा आवास के जरिये से मकान बनवाया गया है। इसके अलावा बाइतुल खुला बनाया गया। सरकारी स्कूल, आंगनबाड़ी सेंटर वगैरह भी चल रहे हैं। क्लिंटन ने एलान की थी। मैने भी सुना था। लेकिन, अभी तक कुछ नहीं हो सका है।

(पद्मश्री सुधा वर्गीज, सामाजिक कारकुन )

 

TOPPOPULARRECENT