Monday , September 25 2017
Home / International / बिल गेट्स का गरीबी दूर करने के लिए ‘चिकन’ योजना

बिल गेट्स का गरीबी दूर करने के लिए ‘चिकन’ योजना

सब-सहारा: माइक्रोसॉफ्ट के मालिक और मानवतावादी अरबपति बिल गेट्स ने अफ्रीका में गरीब परिवारों को सहायता देने के लिए एक लाख मुर्गियां वितरण करने की घोषणा की है।

अरबपति बिल गेट्स ने कहा है कि मुर्गियों को पालने और बेचने से गरीबी को कम करने में मदद मिल सकती है। बिल गेट्स ने सब-सहारा अफ्रीकी देशों में गरीब परिवारों में एक लाख मुर्गियां वितरण करने की घोषणा की है।

संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के अनुसार सब-सहारा अफ्रीकी देशों में 41 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं।

बिल गेट्स का कहना है कि एक किसान पांच मुर्गियां पाल सालाना 1000 डॉलर कमा सकता है। जिन परिवारों की वार्षिक आय 700 डॉलर से कम हो उन्हें गरीबी रेखा से नीचे माना जाता है।

बिल गेट्स ने कहा है कि वह सहारा के 30 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों को अच्छी पीढ़ी के ऐसी मुर्गियां प्रदान करना चाहते हैं जिन्हें बीमारियों से बचाव के टिके लगे होंगे।

बीबीसी के अनुसार बिल गेटस का गरीबों की मदद की भावना महत्वपूर्ण है लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या वे उसके जरिये ग़रीब परिवारों को गरीबी से निकालने में सफल हो पाएंगे?

रिपोर्टर के अनुसार जब मुर्गियों की संख्या बढ़ेगी तो उनके लिए भोजन कहाँ से आएगी और क्या मुर्गियों के लिए भोजन बनाने के लिए कृषि योग्य भूमि चिकन फ़ीड करने के लिए उपयोग होगा। इसके अलावा बाजार में अतिरिक्त चिकन की आपूर्ति से पोल्ट्री की कीमतों में कमी होगी।

अमेरिका, यूरोपीय संघ और ब्राजील पर आरोप लगता रहा है कि वह अफ्रीकी देशों में सस्ते दामों में पोल्ट्री बेचकर स्थानीय उत्पादकों को बेरोजगार कर रहे हैं। रिपोर्टर के अनुसार इन सभी चिंताओं का कभी यह मतलब नहीं है कि बिल गेट्स ने परियोजना का निरीक्षण किया। अगर इस परियोजना की सफलता की संभावना कम भी हों तब भी उसे मौका जरूर दिया जाना चाहिए।

 

TOPPOPULARRECENT