Tuesday , September 26 2017
Home / Khaas Khabar / “बिस्मिल हो तो क़ातिल को दुआ क्यूँ नहीं देते”, अहमद फ़राज़ की ग़ज़ल

“बिस्मिल हो तो क़ातिल को दुआ क्यूँ नहीं देते”, अहमद फ़राज़ की ग़ज़ल

ख़ामोश हो क्यों दाद-ए-ज़फ़ा क्यूँ नहीं देते
बिस्मिल हो तो क़ातिल को दुआ क्यूँ नहीं देते

वहशत का सबब रोज़न-ए-ज़िन्दाँ तो नहीं है
मेहर-ओ-महो-ओ-अंजुम को बुझा क्यूँ नहीं देते

इक ये भी तो अन्दाज़-ए-इलाज-ए-ग़म-ए-जाँ है
ऐ चारागरो! दर्द बढ़ा क्यूँ नहीं देते

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

मुंसिफ़ हो अगर तुम तो कब इन्साफ़ करोगे
मुजरिम हैं अगर हम तो सज़ा क्यूँ नहीं देते

रहज़न हो तो हाज़िर है मता-ए-दिल-ओ-जाँ भी
रहबर हो तो मन्ज़िल का पता क्यूँ नहीं देते

क्या बीत गई अब के “फ़राज़” अहल-ए-चमन पर
यारान-ए-क़फ़स मुझको सदा क्यूँ नहीं देते

(अहमद “फ़राज़”)

TOPPOPULARRECENT