Friday , September 22 2017
Home / Hyderabad News / बिहार के नताइज वादों से इन्हिराफ़ करने वालों के लिए सबक़: ज़ाहिद अली ख़ान

बिहार के नताइज वादों से इन्हिराफ़ करने वालों के लिए सबक़: ज़ाहिद अली ख़ान

नलगेंडा 10 नवंबर:एडीटर रोज़नामा सियासत ज़ाहिद अली ख़ान ने कहा कि वो नलगेंडा में ख़िताब कर रहे हैं मगर उनकी आवाज़ वर्ंगल तक सियासत के ज़रीये पहुँचती है। बिहार के नताइज वादों से मुकरने वालों के लिए सबक़ है।

टी आर एस हुकूमत मुसलमानों को 12 फ़ीसद मुस्लिम तहफ़्फुज़ात फ़राहम करने के लिए संजीदा है तो सुधीर कमेटी पर वक़्त बर्बाद करने के बजाये बी सी कमीशन तशकील देते हुए अपने वादे को पूरा करें। हुसूल इन्साफ़ तक रोज़नामा सियासत की जद्द-ओ-जहद जारी रहेगी और तहरीक को मुसलमानों की भरपूर ताईद पर इज़हार-ए-तशक्कुर किया।

नलगेंडा के एस आर फंक्शन हाल में रोज़नामा सियासत और दुसरें के ज़ेरे एहतेमाम मुनाक़िदा 12 फ़ीसद मुस्लिम तहफ़्फुज़ात के जल्सा-ए-आम से ख़िताब करते हुए इन ख़्यालात का इज़हार किया।

ज़ाहिद अली ख़ान ने कहा कि टी आर एस ने अपने चुनाव मंशूर में मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम करने का वाअदा किया मुसलमानों ने भरोसा किया मगर इस पर कोई अमल आवरी नहीं हुई। रोज़नामा सियासत ने एक साल तक इंतेज़ार किया कि चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना अपने वाअदे को निभाऐंगे मगर जब बी सी कमीशन के बजाये हुकूमत की तरफ से सुधीर कमेटी तशकील दी गई तब रोज़नामा सियासत ने तेलंगाना के तमाम अज़ला से सरकारी मुलाज़िमीन और अवामी मुंख़बा नुमाइंदों के ज़रीये जमहूरी अंदाज़ में हुकूमत को नुमाइंदगीयाँ पेश करने का फ़ैसला किया।

तहफ़्फुज़ात से न्यूज़ एडीटर आमिर अली ख़ान या उनके बच्चों को कोई फ़ायदा नहीं होगा बावजूद उस के मिल्लत के मुफ़ादात को पेश-ए-नज़र रखते हुए उन्हें मुसलमानों में शऊर बेदार कराने के लिए तमाम अज़ला को रवाना किया जा रहा है।

वो मुसलमानों से भी इज़हार-ए-तशक्कुर करते हैंके तमाम जमातों तन्ज़ीमों की तरफ से रोज़नामा सियासत की तरफ से शुरू की गई तहरीक को मुस्तहकम करने में मुकम्मिल तआवुन कर रहे हैं।

ज़ाहिद अली ख़ान ने कहा कि चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के सी आर ने 4 माह में मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम करने का वाअदा किया था इक़तिदार के 17 माह मुकम्मिल हो चुके हैं और तेलंगाना में एक लाख 60 हज़ार जायदादों पर तक़र्रुत करने का एलान किया गया है। अगर मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए बग़ैर तक़र्रुत के अमल को पूरा किया जाता है तो मुस्लमानों को सरकारी तक़र्रुत में 15 हज़ार मुलाज़मतों का नुक़्सान होगा और तालीमी मैदान में भी बड़े पैमाने पर मुस्लिम तलबा को आला तालीम से महरूम होना पड़ेगा।

ज़ाहिद अली ख़ान ने कहा कि ये तहरीक किसी की ताईद में नहीं है और ना ही किसी की मुख़ालिफ़त में सिर्फ मुसलमानों को उनके हुक़ूक़ फ़राहम करने की याद-दहानी के लिए चलाई जा रही है।

वादों से मुकरने या उन्हें धोका देने वालों को अवाम कभी माफ़ नहीं करेंगे। नरेंद्र मोदी ने मुल्क के अवाम से बहुत सारे वाअदे किए यहां तक कि चुनाव से एन क़बल बिहार के लिए एक लाख 25 हज़ार करोड़ के पैकेज का एलान किया मगर बिहार के अवाम ने मोदी और पैकेज दोनों को नजरअंदाज़ कर दिया।

वर्ंगल में लोक सभा का ज़िमनी चुनाव मुनाक़िद हो रहा है वो नलगेंडा में ख़िताब कर रहे हैं मगर उनकी आवाज़ अख़बार सियासत के ज़रीये वर्ंगल तक भी पहुँचेगी। उन्होंने कहा कि तेलंगाना तहरीक में रोज़नामा सियासत का रोल नाक़ाबिल फ़रामोश है।

TOPPOPULARRECENT