Sunday , September 24 2017
Home / Bihar News / बिहार के सरहदी इलाकों में तीखी हुई जंग, इंतिख़ाब का कभी नहीं दिखा ऐसा रंग

बिहार के सरहदी इलाकों में तीखी हुई जंग, इंतिख़ाब का कभी नहीं दिखा ऐसा रंग

पटना : सीमांचल और कोसी में 5 नवम्बर को होने वाले वाले इंतिख़ाब की जंग बड़ी तीखी हो गई है। सारे दलों के मुल्क भर के दिग्गज इसी इलाके में तशहीर को उतर आए हैं। पीर को नरेन्द्र मोदी, नीतीश कुमार, कांग्रेस लीडर राहुल गांधी, लालू प्रसाद यादव समेत मुल्क भर के करीब सौ लीडर इस इलाके में थे। इंतिखाबी फिजां में यह बहस है कि सबसे आखरी फेज में इस इलाके के 37 सीटों पर होने वाला इंतिख़ाब यह तय करेगा कि बिहार की हुकूमत किसको मिलेगी । इसलिए हर पार्टी ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इधर के लोग बता रहे हैं कि इंतिख़ाब का ऐसा रंग पहले कभी नहीं देखा।

भाजपा और राजग के लिए यह इलाका पथरीला है। गुजिशता इंतिख़ाब में भाजपा को इधर महज़ 8 सीटें मिली थीं। 2014 के लोकसभा इंतिख़ाब में तो एक सीट भी नहीं मिली थी। इस बार हर सीट पर खड़े राजग उम्मीदवारों को जीत तय करने के लिए लीडरों की पूरी फौज उतर आई है। खुद वजीरे आजम नरेन्द्र मोदी चार जिलों में गए। पीर को वजीरे आजम समेत भाजपा के 42 बड़े लीडर इस इलाके में थे। दाखला वज़ीर राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, रविशंकर प्रसाद, राधामोहन सिंह, उपेन्द्र कुशवाहा, साबिक़ वजीरे आला जीतनराम मांझी से लेकर झारखंड और मध्यप्रदेश के वजीरे आला ने ताबड़तोड़ इजलास की। गुजिशता दस दिन से इधर कैंप कर रहे पार्टी के क़ौमी तर्जुमान सैयद शहनवाज हुसैन ने दावा किया कि इस बार जैसा राजग का माहौल पहले कभी नहीं दिखा।

उधर इत्तिहाद की तरफ से वजीरे आला नीतीश कुमार ने खुद तशहीर का मोर्चा संभाल रखा है। उन्होंने गुजिशता चार दिनों से सड़क तामीर वज़ीर ललन सिंह के साथ मधेपुरा में रहकर दो दर्जन से ज्यादा इजलास की।

पार्टी के क़ौमी सदर शरद यादव दशहरा के पहले मधेपुरा में डेरा डाले हुए हैं। राजद सदर लालू प्रसाद यादव और उनकी बेटी मीसा भारती भी इतवार से इस इलाके में तशहीर शुरू किया है। ललन सिंह ने कहा कि इस बार के इंतिख़ाब में भाजपा और उसके साथी पार्टी कहीं नहीं दिख रहे हैं। दिख रहे हैं तो सिर्फ नीतीश कुमार और उनके काम।

बिहार में कांग्रेस के 40 उम्मीदवारों में से 10 सीमांचल में खड़े हैं। उनके लिए खुद क़ौमी नायब सदर राहुल गांधी किशनगंज और अररिया में तशहीर करने आए। गुलामनबी आजाद समेत रियासत और मरकज़ के कई लीडर इधर घुम रहे हैं।

मधेपुरा के एमपी राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव अपनी जनाधिकार पार्टी के उम्मीदवारों के लिए हर सीट पर तशहीर करने जा रहे हैं। पप्पू ने अपनी पार्टी को इस इलाक़े की तीसरी सियासी ताकत बनने के लिए पूरा जोर लगा दिया है।

 

 

TOPPOPULARRECENT