Monday , September 25 2017
Home / Bihar News / बिहार को अब तो बख्श दीजिए जुमला बाबू : नीतीश

बिहार को अब तो बख्श दीजिए जुमला बाबू : नीतीश

पटना : साबिक़ सदर ए जम्हूरिया वीवी गिरि की 121वीं यौमे पैदाइश तकरीब पर वजीरे आला नीतीश कुमार ने पीएम नरेंद्र मोदी पर जम कर पलटवार किया। एसके मेमोरियल एडोटोरियम में मुनक्कीद तकरीब में आये नीतीश कुमार ने बिहार की मुसलसल नज़र अंदाज़ को लेकर उन्होंने कहा कि अब तो जुमला बाबू बख्श दें। तकरीब में मौजूद लोगों से 30 अगस्त को बिहार खुद्दारी रैली में आने की दरख्वास्त की। साथ ही लोगों को झांसे में नहीं आने की दरख्वास्त किया। तकरीब का इंकाद आल इंडिया गोस्वामी जागरण मंच व डॉ वीवी गिरि मेमोरियल वेलफेयर अदारा ने किया।

वजीरे आला ने कहा कि एसेम्बली इंतिख़ाब को लेकर जुमला बाबू अब बार-बार आते रहेंगे। फिर से लोगों को झांसा देंगे। वोट लेने के लिए खुसुसि पैकेज, खुसुसि मदद देने की बात करेंगे, लेकिन अब उनके बहकावे में नहीं आना है। अब उन्हें कह देना है कि यहां के लोग अब आपके बहकावे में नहीं आनेवाले हैं। लोकसभा इंतिख़ाब से पहले जो वादे किये थे, उसे तो वे पहले पूरा करे। अब तो ऐसे काम कर रहे हैं जो देख कर ताज्जुब लगता है। 160 साल के रेल तवारीख में यह पहली बार देखा कि नया रेल लाइन पर ट्रायल इंजन चलाने के लिए इफ़्तिताह किया गया। रेयरेस्ट ऑफ द रेयर केस की तरह मुंबई से सहूलत ट्रेन को झंडी दिखायी गयी। ऑन डिमांड ट्रेन चलाने की बात पहली बार सुनी। यह कैसा तरक़्क़ी है। जब यह सारी बातें याद दिलायी जाती हैं, तो कहा जाता है कि डीएनए खराब है।

बिहार को बीमारू, बदनसीब कहा जाता है। उन्होंने कहा कि मेरा वही डीएनए है जो बिहारियों का है। वह मेरा तौहीन नहीं, पूरे बिहारियों का तौहीन किया है। इसलिए नाखून व बाल काट कर सैंपल जांच के लिए भेजा जा रहा है। मुङो बिहारी होने का फक्र है। मुङो घमंड नहीं है। वुसुल के रास्ते पर चलना घमंड नहीं कहलाता है। ख्याल के फी ख्याले अज़म है। मिट जायेंगे, लेकिन कुछ चीजों से मूआहिदा नहीं करेंगे। खुसुसि रियासत के दर्जा के लिए पटना व दिल्ली में अधिकार रैली किये। मरकज़ अगर खुसुसि रियासत का दर्जा दे तो लोग यहां आकर सरमाया करेंगे। बिहार को सहूलत नहीं मिलने पर भी वे अपने दम पर तरक़्क़ी कर लेंगे। हमें मौका मिला तो काम किया। आगे भी करेंगे। जुमलेबाजी करना हमें नहीं आता है। गोस्वामी समाज के बारे में कहा कि मौका मिला तो उसे पसमानदा तबके में रिज़र्वेशन देने का काम हुआ।

 

 

TOPPOPULARRECENT