Sunday , September 24 2017
Home / Bihar News / बिहार में अमन-ओ-क़ानून की सूरत-ए-हाल अबतर

बिहार में अमन-ओ-क़ानून की सूरत-ए-हाल अबतर

बैंगलोर: ये इल्ज़ाम आइद करते हुए कि बिहार में जराइम की शरह मुसलसल बढ़ते जा रही है। लोक जन शक्ति पार्टी लीडर चिराग़ पासवान ने कहा कि चीफ़ मिनिस्टर नीतीश कुमार को हुकूमत पर मुकम्मल कंट्रोल नहीं है और ये अंदेशा है कि जंगल राज , हक़ीक़त में क़ायम हो जाएगी।

उन्होंने बताया कि बिहार की सूरत-ए-हाल हर-रोज़ संगीन होते जा रही है और क़तल-ओ-ख़ून के वाक़ियात आम हो गए हैं जिस पर पार्टी के इजलास में तबादला-ए-ख़्याल किया गया। रियासत में सदर राज का नफ़ाज़ या चीफ़ मिनिस्टर से इस्तीफे का मुतालिबा क़बल अज़ वक़्त होगा और ये तवक़्क़ो रखते हैं कि हालात बहुत जल्द बेहतर होजाएंगे।

चिराग़ पासवान जो कि एलजेपी पार्लीमानी पार्टी के सदर नशीन हैं कहा है कि नीतीश कुमार कोशक का फ़ायदा भी नहीं दिया जा सकता क्यों कि उन्हें तजुर्बे के साथ तीन मीयाद से चीफ़ मिनिस्टर हैं । उन्होंने इल्ज़ाम आइद किया कि क़तल की वारदातों से ये साबित हुआ है कि सरकारी इंतेज़ामिया पर नीतीश कुमार का कंट्रोल बरक़रार नहीं है और बिहार में आरजेडी सरबराह लालू प्रसाद यादव बिलवासता , ख़लूत हुतेकूमत चला रहे हैं।

मर्कज़ी वज़ीर राम विलास पासवान के फ़र्ज़ंद चिराग़ पासवान ने ये इद्दिआ किया कि बिहार के हालात से ये इशारा मिलता है कि नीतीश कुमार की हुकूमत2 साल भी नहीं चलेगी। क्योंकि नीतीश और लालू प्रसाद के बीच‌ शदीद इख़तिलाफ़ात पाए जाते हैं । इस ख़ुसूस में उन्होंने मिसाल पेश की कि वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी के दौरा लाहौर पर नीतीश कुमार ने सताइश की तो लालू यादव ने तन्क़ीद की।

जिसके बाइस ये हुकूमत बाहमी तज़ादात से रूबा ज़वाल हो जाएगी|

TOPPOPULARRECENT