Saturday , August 19 2017
Home / Bihar News / बिहार में बाढ़, राज्य की समस्या नहीं बल्कि राष्ट्रीय चिंता का विषय: नीतीश

बिहार में बाढ़, राज्य की समस्या नहीं बल्कि राष्ट्रीय चिंता का विषय: नीतीश

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के उत्तरी क्षेत्र में आमतौर पर हर साल बाढ़ एक राज्य चिंता का नहीं बल्कि राष्ट्रीय समस्या करार देते हुए कहा कि यहां बाढ़ का संबंध बारिश से नहीं बल्कि नेपाल से आने वाला पानी है.

मिस्टर कुमार ने  मुख्यमंत्री सचिवालय में बिहार में आफ़ात जोखिम में कमी के रोड मैप 2015 से 2030 के कार्यान्वयन के लिए एशियन डिजास्टर केंद्र (एडीपीसी) बैंकॉक, थाईलैंड के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर के बाद आयोजित कार्यक्रम में कहा कि बिहार में कई तरह के आपदा आया है। राज्य को बाढ़ और सूखे दोनों का एक साथ सामना करना पड़ता है जिससे जब भी बाढ़ की समीक्षा की जाती है तो साथ ही सूखे का भी जायजा लेना पड़ता है।

उन्होंने उम्मीद जताई कि एमओयू के बाद बिहार में आफ़ात के खतरे में कमी रोडमैप प्रक्रिया में मदद मिलेगी. उन्होने कहा कि मौसम में बदलाव आ रहा है। पिछले एक दशक में दो साल छोड़ कर आठ साल में कभी भी नियमित बारिश नहीं हुई है जिससे राज्य का जल स्तर नीचे जा रहा है. नीतीश कुमार ने कहा कि बाढ़ का संबंध बारिश से नहीं बिहार में जब भी बाढ़ की गंभीर स्थिति पैदा होती है तो वह नेपाल की वजह से होती है। यह राज्य की समस्या न होकर राष्ट्रीय चिंता का विषय है। उन्होंने कोसी के विनाशकारी बाढ़ का जिक्र करते हुए कहा कि इस साल राज्य में कोई खास बारिश न होने के बावजूद आपदा आई।

नेपाल के क्षेत्र में बांध की कमजोरी की वजह से बांध टूटने से खतरनाक स्थिति पैदा हुई थी. कुमार ने कहा कि नदियों में गाद जमा हो रहा है और इसकी वजह से बांध के अंदर थोड़ा भी पानी आने से बांध टूटने का अंदेशा रहता है . कोसी में बाढ़ से बुनियादी ढांचे को पहुंचे नुकसान को अब तक बहाल किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT