Thursday , June 22 2017
Home / Bihar News / बिहार: शराबबंदी के बाद बदल रहा है समाज, मानव शृंखला एक मजबूत संदेश

बिहार: शराबबंदी के बाद बदल रहा है समाज, मानव शृंखला एक मजबूत संदेश

अब्दुल हमीद अंसारी, चकिया। बिहार में शराबबंदी ने समाज की तस्वीर बदल कर रख दी है। लोगों के अंदर काफी बदलाव नजर आ रहे है। नीतीश कुमार के इस कदम से बिहार में मजदूरी करके गुजारा करने वाले लोगों को आज काफी राहत की जिंदगी मिल रही है। सबसे बड़ी बात यह है कि आज लोग जो पैसे शराब पीने में खर्च कर रहे थे, आज वही पैसा अपने बच्चों के शिक्षा विकास पर कर रहे हैं। शराबबंदी के बाद बिहार का माहौल बदल रहा है और अपराध और सड़क हादसों में भारी कमी आयी है। हत्या व डकैती में 23% और लूट में 19% तक की गिरावट आयी है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि नशामुक्ति को लेकर 21 जनवरी को राज्य भर में बननेवाली मानव शृंखला अभूतपूर्व होगी। इससे पूरी दुनिया को एक संदेश जायेगा। इसमें दो करोड़ से अधिक लोग भाग लेंगे। इसके साथ ही नशामुक्त बिहार का कार्यक्रम शुरू होगा, जो अगले दो माह तक चलेगा। इसके माध्यम से गांव-गांव में लोगों को नशामुक्ति का संदेश दिया जायेगा। इस प्रोग्राम को कामयाब बनाने के लिए हर ब्लॉक और पंचायत स्तर पर लोग जुड़ रहे हैं।

इस कार्यक्रम में कल्याण पूर प्रखंड के पंचायत समिति सदस्य (दक्षिणी) अशोक कुमार सिंह भी शामिल हो रहे हैं। खास बात यह है कि समाजिक स्तर पर अशोक कुमार सिंह शराबबंदी खास भूमिका निभाई है। कथित तौर पर कभी जरूरी चीजों से ज्यादा शराब की दुकाने हुआ करती थी मगर शराबबंदी के बाद अशोक कुमार सिंह ने इस मुहिम को कामयाबी तक पहुंचाने के लिए अहम भूमिका निभाई है। 21 जनवरी के प्रोग्राम को खास बनाने के लिए अशोक कुमार सिंह अपने साथ सैकड़ों लोगों को लेकर इस कार्यक्रम में शामिल होंगे।

जिलों में 21 जनवरी को मानव शृंखला का नेतृत्व संबंधित जिले के प्रभारी मंत्री और प्रभारी सचिव करेंगे। उन्हें एक दिन पहले ही संबंधित जिले में कैंप करने और तैयारी का जायजा लेने का भी निर्देश दिया गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना में मानव शृंखला का हिस्सा बनेंगे। वह यहां गांधी मैदान में आयोजित होनेवाले मुख्य कार्यक्रम में शामिल हाेंगे, जहां मानव शृंखला के जरिये बिहार का मानचित्र बनाया जायेगा।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT