Saturday , October 21 2017
Home / India / बीवी की रक़म चुराना शौहर पर ज़ुल्म के मुतरादिफ़ : अदालत

बीवी की रक़म चुराना शौहर पर ज़ुल्म के मुतरादिफ़ : अदालत

किसी बीवी की मकान से रक़म चोरी की आदत और डेबिट कार्ड फ्रॉड केस में गिरफ़्तारी ये ज़ाहिर करने के लिए काफ़ी है कि बीवी ने तलाक़ के केस में शौहर पर ज़हनी करब ढाया है, बम्बे हाईकोर्ट ने ये रोलिंग दी। जस्टिस वी एल अचिलिया और जस्टिस विजय‌ तहल

किसी बीवी की मकान से रक़म चोरी की आदत और डेबिट कार्ड फ्रॉड केस में गिरफ़्तारी ये ज़ाहिर करने के लिए काफ़ी है कि बीवी ने तलाक़ के केस में शौहर पर ज़हनी करब ढाया है, बम्बे हाईकोर्ट ने ये रोलिंग दी। जस्टिस वी एल अचिलिया और जस्टिस विजय‌ तहल रमानी ने एक शख़्स तलाक़ का हक़ अता करने वाले फ़ैमिली कोर्ट हुक्मनामा को हक़ बजानिब क़रार देते हुए कहा कि फ़रीक़ैन के समाजी दर्जा और समाज के जिस गोशा से वो ताल्लुक़ रखते हैं उसे देखें तो इस हरकत की संगीनी इस क़दर है कि ये वाज़िह तौर पर ज़ुल्म क़रार पाता है।

अदालत ने बीवी की जानिब से फ़ैमिली कोर्ट के 2008 के फ़ैसले के ख़िलाफ़ दायर करदा अपील को ख़ारिज भी करते हुए बयान किया कि इस का तर्ज़-ए-अमल वाज़िह तौर पर अपने शरीक-ए-हयात पर ज़ुल्म की निशानदेही करता है। शौहर ने शिकायत की थी कि उस की बीवी को दरोग़ गोई और रक़म चोरी की आदत है जिसके लिए बैंक चेक्स में भी उलट फेर की।

TOPPOPULARRECENT