Saturday , October 21 2017
Home / Khaas Khabar / बेंगलुरु: गोमांस खाने के प्रोग्राम का खाना पुलिस उठा ले गई

बेंगलुरु: गोमांस खाने के प्रोग्राम का खाना पुलिस उठा ले गई

बेंगलुरु: बीफ बैन पर चल रही बहस के मद्देनजर कुछ तंज़ीमों ने शहर में बीफ (गोमांस) खाने का प्रोग्राम मुनाकिद किया। इस प्रोग्राम में ज्ञानपीठ से एज़ाज़ यफता मुसन्निफ व फिल्मसाज़ गिरीश कर्नाड भी शामिल हुए। हालांकि बहुत सारे लोग कुछ खा नह

बेंगलुरु: बीफ बैन पर चल रही बहस के मद्देनजर कुछ तंज़ीमों ने शहर में बीफ (गोमांस) खाने का प्रोग्राम मुनाकिद किया। इस प्रोग्राम में ज्ञानपीठ से एज़ाज़ यफता मुसन्निफ व फिल्मसाज़ गिरीश कर्नाड भी शामिल हुए। हालांकि बहुत सारे लोग कुछ खा नहीं पाए क्योंकि पुलिस खाना उठाकर ले गई।

मुल्क के कुछ हिस्सों में हुकूमत ने बीफ पर बैन लगा दिया है। इसी के एहतिजाज में कुछ दलित तंज़ीमों ने यह प्रोग्राम मुनाकिद किया था। प्रोग्राम में कई मशहूर हस्तियां शामिल हुईं। इनमें मशहूर कन्नड़ मुसन्निफ डॉ. के मरुलासिदप्पा भी शामिल हैं।

एहतिजाजियों ने बीफ पर बैन कर हिंदुस्तान की अलग अलग खाने के कल्चर और खाने के हुकूक की खिलाफवर्जी बताया। कर्नाड और मरुलासिदप्पा ने बीफ नहीं खाया लेकिन उन्होंने कहा कि वे बैन का एहतिजाज करते हैं।

कर्नाड ने कहा, ‘मैं नहीं चाहता कि लोग कहें कि मैं बीफ खाता हूं इसलिए बैन का एहतिजाज कर रहा हूं। नहीं, सभी को अपनी मर्जी का हुकूक है…’

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘कौन कहता है कि ज़्यादातर लोग बीफ नहीं खाते? यह बकवास ब्राह्मणों की फैलाई हुई है। हिंदुत्व के पैरोकारों ने इसे बनाया है। वोक्कलिग, मुसलमान, ईसाई, दलित और दूसरे कई फिर्के बीफ खाते हैं।’

मरुलासिदप्पा ने भी वहां बीफ नहीं खाया। उन्होंने कहा, ‘मैंने नहीं खाया क्योंकि यह मेरे खाने की आदतों ने नहीं है। लेकिन जैसे मुझे न खाने का हक या अख्तियार है, वैसे ही मैं खाने के अहुकूक की भी ताईद करता हूं।’

TOPPOPULARRECENT