Saturday , March 25 2017
Home / Sports / बेंगलुरु टेस्ट सीरीज : DRS पर ‘चीटिंग विवाद’ में दोनों बोर्ड आमने-सामने

बेंगलुरु टेस्ट सीरीज : DRS पर ‘चीटिंग विवाद’ में दोनों बोर्ड आमने-सामने

बेंगलुरु : भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही टेस्ट सीरीज में DRS पर ‘चीटिंग विवाद’ अब तूल पकड़ते जा रहा है। इस विवाद पर अब दोनों क्रिकेट टीमों के बोर्ड खुलकर अपने-अपने कैप्टन के समर्थन में आ गए हैं। बुधवार को सबसे पहले क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इसकी शुरुआत की। स्टीव स्मिथ को DRS विवाद पर चौतरफा घिरे देख क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया उनके बचाव में आ गया। इसके बाद बीसीसीआई ने भी इसका जवाब देने में देर नहीं लगाई।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सीईओ जेम्स सदरलैंड बुधवार को खुलकर स्टीव स्मिथ के समर्थन में आ गए। उन्होंने कहा स्टीव स्मिथ एक शानदार क्रिकेटर होने के साथ-साथ अच्छे व्यक्तित्व वाले शख्स हैं। वह अपने खेल और अच्छे व्यवहार के चलते लाखों लोगों के रोल मॉडल हैं और हम मानते हैं कि बेंगलुरु टेस्ट में रिव्यू मामले पर जो कुछ भी हुआ वह स्टीव स्मिथ ने किसी गलत इरादे से नहीं किया। सदरलैंड ने अपने कप्तान के बचाव के साथ-साथ भारतीय कप्तान को भी आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि विराट और उनकी टीम द्वारा स्मिथ पर लगाए गए आरोप चौंकाने वाले हैं। सदरलैंड ने कहा, ‘विराट के द्वारा स्टीव स्मिथ, ऑस्ट्रेलियाई टीम और ड्रेसिंग रूम पर लगाए गए आरोप उनकी ईमानदारी पर उठाए गए सवाल हैं।’

सदरलैंड यहीं नहीं रुके और उन्होंने कहा कि स्टीव स्मिथ की ईमानदारी को लेकर जिस तरह की कॉमेंट्री की जा रही है हम उसे खारिज करते हैं। ऐसे में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया, स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों के साथ मजबूती से खड़ा है। सदरलैंड के अलावा ऑस्ट्रेलिया के कोच डेरेन लीमैन ने भी विराट के इस आरोप को खारिज किया है कि ऑस्ट्रेलियाई टीम ने बेंगलुरु टेस्ट में बार-बार नियमों को तोड़ा है और खेल भावना को ठेस पहुंचाई है।

इस पर बीसीसीआई ने भी अपना जवाब देने में देर नहीं लगाई। बीसीसीआई ने कहा कि हमने विडियो को देखा है, जिसमें स्टीव स्मिथ जानबूझकर ड्रेसिंग रूम से सलाह मांग रहे हैं। इसलिए हम मजबूती के साथ अपने कप्तान विराट कोहली और उनकी टीम के साथ खड़े हैं।

बीसीसीआई ने कहा, ‘विराट कोहली एक परिपक्व और अनुभवी क्रिकेटर हैं और मैदान पर उनका व्यवहार दूसरों के लिए उदाहरण है। यहां तक कि कोहली के ऐक्शन को मैदान पर मौजूद अंपायर निजल लॉन्ग ने भी समर्थन किया था और वह तुरंत स्मिथ को ऐसा करने से रोकने के लिए उनके पास पहुंचे थे।’ बोर्ड ने बताया कि उसने आईसीसी से इस मामले में ऐक्शन लेने की मांग की है, जिस पर स्टीव स्मिथ ने भी बाद में अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में ‘ब्रेन फेड’ की बात कही थी।

बता दें कि बेंगलुरु में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच के दौरान स्टीव स्मिथ के LBW आउट होने पर डीआरएस लेने से पहले ड्रेसिंग रूम से सलाह मांगी थी, जो नियमों के खिलाफ था। भारतीय कैप्टन विराट कोहली ने इसकी शिकायत अंपायर और मैच रेफरी से की। मैच के बाद आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी भारतीय कैप्टन विराट कोहली ने मीडिया में भी स्मिथ की इस हरकत की निंदा की थी। बाद में स्टीव स्मिथ ने भी अपनी गलती मानी और कहा था कि उन्होंने कोई गलत इरादे से ऐसा नहीं किया था। उन्होंने इस गलती को ‘ब्रेन फेड’ (कुछ सेकंड के लिए दिमाग सुन्न होना) बताया था।

उल्लेखनीय है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज में इस तरह की गहमा-गहमी अक्सर देखने को मिल जाती है। इससे पहले 2008 की सीरीज में भी विवादों ने खूब तूल पकड़ा था। तब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया खेलने गई थी और मंकीगेट और खराब अंपायरिंग के मुद्दे विवादों में छाए थे।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT