Wednesday , October 18 2017
Home / India / बेक़सूर मुस्लिम नौजवानों की रिहाई के साथ मुआवज़ा भी देने का मुतालिबा

बेक़सूर मुस्लिम नौजवानों की रिहाई के साथ मुआवज़ा भी देने का मुतालिबा

नई दिल्ली २१ नवंबर (यू एन आई) ऑल इंडिया तालीमी-ओ-मिली फाउंडेशन के सदर मौलाना असर उल-हक़ क़ासिमी ने मालीगावं बम धमाका के मुल्ज़िमीन के बेक़सूर साबित होने पर इज़हार इतमीनान करते हुए हुकूमत पर ज़ोर दिया है कि अगरचे अब बे क़सूर नौजवानों क

नई दिल्ली २१ नवंबर (यू एन आई) ऑल इंडिया तालीमी-ओ-मिली फाउंडेशन के सदर मौलाना असर उल-हक़ क़ासिमी ने मालीगावं बम धमाका के मुल्ज़िमीन के बेक़सूर साबित होने पर इज़हार इतमीनान करते हुए हुकूमत पर ज़ोर दिया है कि अगरचे अब बे क़सूर नौजवानों के क़ीमती पाँच बरसों की तलाफ़ी मुम्किन नहीं लेकिन उन्हें भरपूर मुआवज़ा दिया जाय ताकि वो अपनी ज़िंदगी फिर से मुनज़्ज़म कर सकॆ।

मौलाना ने ये मुतालिबा भी किया कि इन आफ़िसरान के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाय जिन्होंने बेकसूरों को गिरफ़्तार किया और झूटे सबूत गढ़ने की कोशिश की।

उन्हों ने कहा कि जब तक ख़ाती पुलिस वालों और जानिबदार तफ़तीश कारों की गिरिफ़त नहीं होती उस वक़्त तक बेकसूरों की गिरफ़्तारी का सिलसिला जारी रहेगा।मारूफ़ क़ौमी-ओ-मिली रहनुमा मौलाना क़ासिमी ने कहा कि इंतिहाई सख़्त इल्ज़ाम में क़ैद उन बेकसूरों की पाँच बरसों बाद रिहाई बड़ी एहमीयत रखती है क्योंकि ये वाक़िया छानबीन करने वालों के रवैय्ये का भी मज़हर है।

उन्हों ने कहा कि अगर इंसाफ़ के साथ छानबीन की गई होती तो उन बेगुनाहों के पाँच साल यूं बर्बाद ना होते और उन्हें जेल की सऊबतें ना उठानी पड़तीं।मौलाना ने कहा कि मालीगावं , मक्का मस्जिद, अजमेर शरीफ़ धमाकों के असल मुजरिमों के जल्द अज़ जल गिरफ़्तार किया जायॆ ।

TOPPOPULARRECENT