Monday , May 1 2017
Home / Khaas Khabar / बेनामी संपत्ति पर आयकर विभाग की कड़ी नजर, अब तक 230 से अधिक मामले दर्ज

बेनामी संपत्ति पर आयकर विभाग की कड़ी नजर, अब तक 230 से अधिक मामले दर्ज

नई दिल्ली: बेनामी संपत्तियों को लेकर आयकर विभाग चौकस है। सरकार पहले ही कह चुकी है कि कालेधन के खिलाफ नोटबंदी जैसा ही कदम उठाया जाएगा। आयकर विभाग ने अब तक 230 से अधिक बेनामी संपत्ती मामले दर्ज किए हैं। इसके अलावा देश भर में 55 करोड़ रुपये की संपत्तियों की कुर्की भी हुई है।

बता दें कि बेनामी लेनदेन कानून पिछले साल के नवंबर महीने में लागू किया गया था। इस कानून के तहत अगर कोई व्यक्ति कानून का उल्लंघन करता है तो जुर्माने और 7 साल जेल की सजा हो सकती है। आयकर विभाग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, फरवरी के मध्य तक इस कानून के तहत 235 मामले दर्ज किए हैं। वहीं 140 मामलों में कुर्की के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इसमें 200 करोड़ रुपये की संपत्ति शामिल है।

रिपोर्ट के अनुसार, 124 मामलों में 55 करोड़ रुपये की संपत्तियां अस्थायी तौर पर कुर्क हुई है। इसमें बैंक खातों में जमा, उपजाऊ जमीन, फ्लैट और आभूषण शामिल हैं। गौरतलब है कि पिछले साल नोटबंदी के बाद 8 नवंबर को आयकर विभाग ने इस संबंङ में एक विज्ञापन दिया था। विज्ञापन में विभाग ने चेताया था कि वे पुरानी करंसी में अपना बेहिसाबी पैसा किसी अन्य के बैंक खाते में न जमा कराएं। विभाग ने यह भी कहा था कि अगर कोई व्यक्ति ऐसा करता हुआ पाया गया तो उस पर बेनामी संपत्ति लेनदेन कानून, 1988 के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया जाएगा।

आयकर विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि विभाग को कुछ ऐसे मामले मिलें जिनमें गैर-कानूनी तरीके अपनाए गए थे। संदिग्ध कैश को बेनामी खातों या जन धन खातों में या फिर डॉर्मंट अकाउंट्स में जमा कराया गया था। इसके बाद बेनामी लेनदेन कानून के सख्त प्रावधानों के इस्तेमाल का फैसला किया गया। इसके बाद आयकर विभाग ने देशभर में उन संदिग्ध बैंक खातों की पहचान करनी शुरू की जिनमें 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद बड़ी मात्रा में कैश जमा कराए गए।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT