Saturday , October 21 2017
Home / Hyderabad News / बैरून-ए-मुल्क की यूनीवर्सिटीयों में हसूले तालीम के लिए अक़लियती तलबा में जोश-ओ-ख़ुरोश

बैरून-ए-मुल्क की यूनीवर्सिटीयों में हसूले तालीम के लिए अक़लियती तलबा में जोश-ओ-ख़ुरोश

हैदराबाद 22 जुलाई:अक़लियती तलबा के लिए बैरूनी ममालिक की यूनीवर्सिटी में तालीम के हुसूल के सिलसिले में हुकूमत की इमदादी स्कीम से इस्तेफ़ादा के लिए तलबा में काफ़ी जोश-ओ-ख़ुरोश देखा जा रहा है ताहम दरख़ास्तों के इदख़ाल के सिलसिले में सरकारी वैब साईट में नक़ाइस के सबब तलबा को दुशवारीयों का सामना है।

18 जुलाई से दरख़ास्तों के इदख़ाल का आग़ाज़ हुआ और आख़िरी तारीख़ 01अगसट है। कई तलबा और उनके सरपरस्तों ने शिकायत की कि हुकूमत ने जिस वेबसाइट पर दरख़ास्तों के इदख़ाल की हिदायत दी है वो वेबसाइट अक़लियतों से मुताल्लिक़ स्कीम के लिए मख़सूस नहीं है बल्कि वो दर्ज फ़हरिस्त अक़्वाम-ओ-क़बाईल के तलबा से मुताल्लिक़ स्कीम की वेबसाइट है।

ओहदेदारों का कहना हैके इसी वेबसाइट पर अक़लियती तलबा को भी दरख़ास्तें दाख़िल करनी चाहीए। होना तो ये चाहीए था हुकूमत की तरफ् से एलान करदा चीफ़ मिनिस्टर्स ओवरसीज़ स्कालरशिप स्कीम फ़ार माइनॉरिटीज़ के नाम से अलाहिदा वेबसाइट का आग़ाज़ किया जाता लेकिन उसकी अदमे मौजूदगी के बाइस तलबा उलझन का शिकार हैं।

कई तलबा ने शिकायत की के तमाम दरकार तफ़सीलात की ख़ाना पुरी के बावजूद वेबसाइट पर दरख़ास्तें क़बूल नहीं की जा रही हैं और वेबसाइट में ख़राबी का इशारा मिल रहा है। इस तरह एक, एक तालिब-ए-इल्म को दरख़ास्त की ख़ाना पुरी और उसकी क़बूलीयत के लिए घंटों इंतेज़ार करना पड़ रहा है।

ओहदेदारों को इस तरफ फ़ौरी तवज्जा करने की ज़रूरत है। रोज़नामा सियासत ने इस स्कीम से इस्तिफ़ादा के ख़ाहिशमंद तलबा के लिए ख़ुसूसी काउंटर क़ायम किया जहां ऑनलाइन दरख़ास्तों के इदख़ाल की सहूलत फ़राहम की गई।

अक़लियती बहबूद के आला ओहदेदारों को चाहीए कि फ़ौरी इस तरफ तवज्जा मर्कूज़ करें और ख़ुसूसी काउंटर क़ायम करते हुए तहरीरी दरख़ास्तों को क़बूल करने का इंतेज़ाम करें। हुकूमत के अलॉट करदा बजट 25करोड़ रुपये के हिसाब से रियासत के 250तलबा इस स्कीम से इस्तेफ़ादा करसकते हैं क्यूँकि हुकूमत ने हर तालिब-ए-इल्म को 10 लाख रुपये इमदाद फ़राहम करने का फ़ैसला किया है।

हुकूमत ने एडीटर सियासत ज़ाहिद अली ख़ां की नुमाइंदगी पर शराइत में बाज़ तरमीमात की और स्कीम से इस्तेफ़ादा के लिए उम्र की हद को 30 साल से बढ़ा कर 35 साल किया गया।

इस के अलावा मुंतख़ब तलबा को रवानगी का किराया देने से भी इत्तेफ़ाक़ किया गया है। अगर ओहदेदार वेबसाइट के अलावा तहरीरी दरख़ास्तों की क़बूलीयत का इंतेज़ाम करते हैं तो कई अक़लियती तलबा इस स्कीम से इस्तेफ़ादा करपाऐंगे। इसी दौरान सेक्रेटरी अक़लियती बहबूद सय्यद उम्र जलील ने यकीन दिया कि वो इस सिलसिले में ज़रूरी क़दम उठाएंगे।

उन्होंने कहा कि तलबा को चाहीए कि वो मज़कूरा वेबसाइट को क्लिक करें जिस पर अक़लियती तलबा के लिए ख़ानापुरी की सहूलत मौजूद है। उन्होंने कहा कि इस बात की कोशिश की जा रही हैके हुकूमत की तरफ से इस स्कीम के लिए अलॉट करदा 25 करोड़ की रक़म जल्द जारी की जाये।

telanganaepass.cgg.gov.in।बैरूनी यूनीवर्सिटीज़ में तालीमी साल के अगसट में आग़ाज़ को देखते हुए हुकूमत ने इस स्कीम के इस्तेफ़ादा कुनुन्दगान का स्लेक्शन 7 अगसट तक मुकम्मिल करने का फ़ैसला किया है।

TOPPOPULARRECENT