Sunday , October 22 2017
Home / India / बैरून-ए-मुल्क मज़हबी मुक़ामात की यात्रा के लिए सब्सीडी बी जे पी का हिंदुत्तवा एजेंडा : अपोज़ीशन

बैरून-ए-मुल्क मज़हबी मुक़ामात की यात्रा के लिए सब्सीडी बी जे पी का हिंदुत्तवा एजेंडा : अपोज़ीशन

मध्य प्रदेश में क़ाइद अपोज़ीशन अजय सिंह ने आज एक अहम ब्यान देते हुए कहा कि बी जे पी हुकूमत ने रियास्ती अवाम को सब्सीडी देने का जो फ़ैसला किया है ताकि अवाम बैरूनी ममालिक के मज़हबी मुक़ामात का दौरा कर सकें, ये दरअसल बी जे पी का हिंदूत्तवा

मध्य प्रदेश में क़ाइद अपोज़ीशन अजय सिंह ने आज एक अहम ब्यान देते हुए कहा कि बी जे पी हुकूमत ने रियास्ती अवाम को सब्सीडी देने का जो फ़ैसला किया है ताकि अवाम बैरूनी ममालिक के मज़हबी मुक़ामात का दौरा कर सकें, ये दरअसल बी जे पी का हिंदूत्तवा एजेंडा मालूम होता है।

पी टी आई से बात करते हुए उन्होंने कहा कि एक मख़सूस बिरादरी को सब्सीडी देने का आख़िर क्या मक़सद है और वो भी बैरून-ए-मुल्क वाक़्य मज़हबी मुक़ामात के दौरों के लिए? अगर रियास्ती हुकूमत मज़हबी दौरों या यात्राओं को सब्सीडी देना चाहती है तो ये किसी मख़सूस मज़हब के लिए नहीं बल्कि समाज के हर मज़हब के मानने वालों को दी जानी चाहीए ताकि वो अपने मज़हबी मुक़ामात का दौरा कर सकें।

इन्होंने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि बेहतर यही होगा कि हुकूमत ऐसे मज़हबी दौरों पर सब्सीडी देने के बजाय इसी रक़म को ख़सताहाल मुनादिर और दीगर मज़हबी मुक़ामात की दरूस्तगी के लिए इस्तेमाल करे। सरकारी ज़राए ने बताया कि रियास्ती हुकूमत ने कल एक अहम फ़ैसला करते हुए बैरून-ए-मुमालिक में एहमीयत के हामिल मज़हबी मुक़ामात की यात्रा के लिए सब्सीडी स्कीम को तौसीअ देने का ऐलान किया था जिन में श्रीलंका में वाक़्य सीता माता टेम्पल और कमबोडिया में वाक़्य अंग कोर वाट टेम्पल शामिल हैं।

ज़राए के मुताबिक़ सब्सीडी का सिलसिला तो पहले से ही जारी है जहां कैलाश मानसरोवर (चीन । तिब्बत) हिंगलाज माता मंदिर और ननकाना साहिब (दोनों पाकिस्तान में) के दौरों पर सब्सीडी दी जाती है। रियास्ती हुकूमत अब बैरूनी यात्राओं पर आने वाले अख़राजात का 50 फ़ीसद अदा करेगी जिसके लिए ज़्यादा से ज़्यादा अख़राजात की हद 30,000 रुपये मुक़र्रर की गई है।

हिंदूस्तान की मुख़्तलिफ़ रियास्तों में आज़मीन-ए-हज को हुकूमत की जानिब से सब्सीडी दिए जाने का सिलसिला एक ज़माना से जारी है। जिस पर किसी भी सयासी पार्टी या क़ाइद को कभी एतराज़ नहीं हुआ। लेकिन गुज़शता कुछ सालों से कुछ फ़िर्क़ा परस्तों ने हज बैतुल्लाह की तर्ज़ पर दीगर मज़ाहिब के अक़ीदत मंदों को उन की मज़हबी यात्राओं के अख़राजात पर सब्सीडी देने का सिलसिला शुरू किया था।

जिसका वाहिद मक़सद हुकूमत को ये बताना था कि सिर्फ मुस्लिम हाजियों को सब्सीडी दे कर दीगर मज़ाहिब के अक़ीदत मंदों के साथ नाइंसाफ़ी की जा रही है।

TOPPOPULARRECENT