Thursday , August 24 2017
Home / International / बोस्निया: मुस्लिम धार्मिक नेता “इमाम सुलैमान”, आतंकवाद के खिलाफ सक्रिय

बोस्निया: मुस्लिम धार्मिक नेता “इमाम सुलैमान”, आतंकवाद के खिलाफ सक्रिय

सरायवो : सरायवो के इमाम सुलैमान मस्जिद में आने वाले मुसलमानों में काफी लोकप्रिय हैं। वे उनके साथ विशाल दिली  से पेश आते हैं और उन्हें आतंकवाद के सभी रूपों से सचेत करते हैं। डेनियल हाइनरश उन् से बोस्निया में मुलाकात की।

‘जामिया बेयला’ या सफेद मस्जिद सरायवो के पुराने क्षेत्र में स्थित है। इस मस्जिद में सैकड़ों की संख्या में पुरुष और महिलायें इकट्ठा होती हैं। पुरुष मस्जिद में बाईं ओर जबकि महिलायें दाईं ओर हैं। इमाम सुलैमान उन्हें कुरआन की शिक्षाओं के बारे में बता रहे हैं और उनका यह भाषण मस्जिद के आंगन में लगे स्पीकर से भी सुना जा रहा है।

इमाम सुलेमान कहते हैं कि , ” सबसे बड़ी बात यह है कि लोगों को मुकालमात के लिए करीब लाना चाहता हूँ। मैं चाहता हूँ कि विभिन्न आर्थिक समूह खुले दिमाग के साथ एक दूसरे से मिले। ” 50 साल से अधिक उम्र लेकिन जवान दिखने वाले इमाम सुलेमान के अनुसार हर व्यक्ति में मौजूद ‘अच्छाई’ उनके लिए महत्वपूर्ण है। ” मूल रूप से इस बात से किसी को सरोकार नहीं है कि दूसरा व्यक्ति किस धर्म से संबंध रखता है। यह मामला एक व्यक्ति और परमेश्वर के बीच है। ”

बोस्निया और हर्जेगोविना में बसे ज्यादातर मुसलमान सामान्य इस्लाम के अनुयायी हैं और वे एक ईश्वरवाद धर्मों के संयुक्त आधार को महत्व देते हैं। PEW रिसर्च सेंटर के एक समीक्षा के अनुसार बोस्निया और हरज़गवेना के 60 प्रतिशत मुसलमान ईसाई धर्म और इस्लाम के संयुक्त आधार को स्वीकार करते हैं।

एक बोस्नियाई मुस्लिम अहमद अली बेसिक के अनुसार धीरज और दूसरों के जीवन शैली का सम्मान पूरे देश में स्पष्ट है, यहाँ तक कि रमजान के दौरान भी। वहाँ लोग रोज़े रखते हैं मगर वहां दिन में भी रेस्तरां और बार खुले रहते हैं। अहमद अली बेसिक कहते हैं कि उनके देश की विशाल दिली बोसीनिया के इतिहास का हिस्सा है: ” हम उन्नीसवीं सदी के मध्य से ही इस्लामी परंपराओं और यूरोपीय मूल्यों को साथ लेकर चल रहे हैं। यह असामान्य स्थिति, जिसे आमतौर पर आधुनिकता का नाम दिया जाता है, तुर्क साम्राज्य के दौर ही में शुरू हो चुकी थी। ‘

सफेद मस्जिद के इमाम सुलेमान भी अपने उपदेश में लोगों तक इसी सहिष्णुता की शिक्षा पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। वह ऐतिहासिक शब्दों का प्रयोग नहीं करते बल्कि रोज़ाना की जिंदगी की उदाहरण और आम शब्दों के माध्यम से यह संदेश लोगों तक पहुंचाते हैं। मस्जिद के आंगन में स्मार्ट फोन हाथ में लिए युवा भी हैं और तस्बीह लिए बुजुर्ग भी मगर वह करीब आधे घंटे लंबे उनका भाषण बहुत ध्यान से सुन रहे हैं। जिसके बाद वह इमाम सुलेमान के साथ हाथ मिलायेंगे और उनसे सलाह प्राप्त होगा।

TOPPOPULARRECENT