Wednesday , October 18 2017
Home / World / भारतीय नौसेना के लिए साझा तौर पर मिग-29K का उत्पादन करने के लिए रूस तैयार

भारतीय नौसेना के लिए साझा तौर पर मिग-29K का उत्पादन करने के लिए रूस तैयार

नई दिल्ली : रूस ने भारतीय नौसेना से करोड़ों डॉलर का लड़ाकू विमान सौदा हासिल करने के लिए, कहा कि वह विमानों की प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण और भारतीय कंपनियों के साथ मिलकर मिग-29K विमानों का निर्माण करने के खिलाफ नहीं है।
मिग के सीईओ इलिया तारासेंको ने कहा कि ‘उनकी कंपनी जल्द ही भारत सरकार को इस संबंध में एक विस्तृत प्रस्ताव देगी। भारत के साथ अपने नजदीकी संबंधों को और गहरा बनाने के लिए कंपनी नौसेना के लिए साझा तौर पर विमान का उत्पादन करने के लिए तैयार है।’

उन्होंने कहा, ‘हम दीर्घकालिक और सहयोग के परिप्रेक्ष्य में कई विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। इसमें मेक इन इंडिया के रूपरेखा के तहत काम करना भी शामिल है।’

नौसेना ने 57 लड़ाकू विमान खरीदने की प्रक्रिया शुरू की
इस साल जनवरी में भारतीय नौसेना ने अपने बेड़े में 57 बहु-उद्देश्यीय लड़ाकू विमान शामिल करने के लिए खरीद प्रक्रिया शुरू की थी। इसके लिए नौसेना की ओर से बाकायदा दुनिया की बड़ी विमान निर्माता कंपनियों को सूचित करने के लिए अनुरोध भेजा गया था।

इस समय छह अलग-अलग लड़ाकू विमानों को भारतीय विमानवाहक पोत के अनुकूल पाया गया है। इनमें फ्रांस की दसाल्त का राफेल, अमेरिका की बोइंग का एफ-18 सुपर होरनेट, रूस का मिग-29के, अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन का एफ-35बी, एफ-35सी और स्वीडन की साब का ग्रिपिन फाइटर प्लेन शामिल है। जहां एफ-18, राफेल और मिग-29के डबल इंजन वाले जेट हैं, वहीं अन्य विमानों में सिंगल इंजन हैं।

TOPPOPULARRECENT