Friday , September 22 2017
Home / Delhi News / भारतीय पत्रकार वैसा बर्ताव क्यों नहीं करते जैसा पश्चिम देशों के पत्रकार करते हैं?- शाहरुख़ खान

भारतीय पत्रकार वैसा बर्ताव क्यों नहीं करते जैसा पश्चिम देशों के पत्रकार करते हैं?- शाहरुख़ खान

नई दिल्ली। बॉलीवुड सुपर स्टार शाहरुख़ ख़ान का कहना है कि मुझसे ये पूछना कि बॉलीवुड स्टार्स हॉलीवुड ग्रेट मेरिल स्ट्रीप की तरह साफ़गोई से क्यों नहीं बोलते, ठीक ऐसा है मानों आप मुझसे पूछ रहे हों कि मैं टाइगर वुड्स की तरह गोल्फ़ क्यों नहीं खेलता। शाहरुख़ ख़ान ने ये बात एक प्रमुख अंग्रेज़ी दैनिक के साथ एक साक्षात्कार में कही है। साक्षात्कार का कुछ अंश आज बुधवार को इस अख़बार में छपे हैं।

ग़ौरतलब है कि हाल ही में गोल्डन ग्लोब अवार्ड्स समारोह में मेरिल स्ट्रीप ने अपने भाषण में अमेरिका के नये राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों की ज़ोरदार आलोचना की थी जिसकी ख़ूब प्रशंसा भी हुई तो कुछ आलोचना भी हुईं। अगर परिस्थितियां हों तो वो लोग जो बोलना चाहते हैं, अपनी तरह से बोलेंगे

शाहरुख़ का कहना है कि मेरिल स्ट्रीप ने जो कुछ कहा उसका संबंध अमेरिका में हो रही घटनाओं से है। ”क्या हमारे यहां ऐसी (अमेरिका की तरह) परिस्थितियां हैं जिस पर आप मेरा नज़रिया जानना चाहते हैं? नहीं। लेकिन हां, अगर परिस्थितियां हों तो मुझे यक़ीन है कि वो लोग जो बोलना चाहते हैं, अपनी तरह से बोलेंगे।”

किंग खान ने आगे कहा, ”मुझे बड़ा अजीब लगा जब तमाम पत्रकार पूछने लगे कि भारतीय एक्टर्स कब इस तरह से बोलना शुरु करेंगे? भारतीय एक्टर्स उन परिस्थितियों के बारे में क्यों बोलें जिसका वजूद ही नही है? अगर कोई एजेंडा हो या परिस्थिति हो तो आप हमसे पूछें, हम बोलते हैं।” शाहरुख़ ने उलटे ये सवाल कर दिया कि ”भारतीय पत्रकार वैसा बर्ताव क्यों नहीं करते जैसा पश्चिम देशों के पत्रकार करते हैं?

सुपरस्टार ने कहा कि मेरिल स्ट्रीप ने बॉलीवुड फ़ॉरेन प्रेस एसोसिएशन के समारोह में जो कहा उसकी वह सराहना करते हैं, ये बहादुरी का काम है। हमारे अभिनेता, अभिनेत्रियां, फ़िल्म निर्माता और पत्रकार भी बोलते हैं लेकिन मुद्दे की बात ये है कि आपको उन लोगों के बीच बोलना चाहिये जो समझ सकें कि आप क्या बोल रहे हैं। मेरिल स्ट्रीप को बोलने का सही मंच ही नहीं मिला बल्कि ऐसे लोग भी मिले जिन्होंने समझा कि उन्होंने क्या कहा।

शाहरुख़ ने कहा कि इस दुनिया में मैं मेरिल स्ट्रीप को सबसे ज्यादा चाहता हूं। मेरा मानना है कि गाने का हुनर ईश्वर प्रदत्त होता है। अदाकारी सीखी जाती है लेकिन अगर ईश्वर ने तोहफ़े में अदाकारी का हुनर किसी को दिया है तो वह मेरिल स्ट्रीप हैं।

TOPPOPULARRECENT