Sunday , September 24 2017
Home / Delhi / Mumbai / भारत और जापान के बीच ऐतिहासिक सियोल परमाणु समझौता

भारत और जापान के बीच ऐतिहासिक सियोल परमाणु समझौता

TOKYO, NOV 11 (UNI):- Prime Minister, Narendra Modi with the Prime Minister of Japan, . Shinzo Abe, at Kantei (Japan Prime Minister’s Official Residence), in Tokyo, Japan on Friday.UNI PHOTO-99U

टोक्यो: भारत और जापान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शनज़ो अबे की बातचीत के बाद एक ऐतिहासिक सियोल परमाणु सहयोग समझौता पर हस्ताक्षर किए हैं। यह ऐसा कदम है जिससे आपसी आर्थिक और सुरक्षा संबंधों को बढ़ावा मिलेगा और अमेरिकी कंपनियों को भारत में उन्हें संयंत्रों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त होगा। शनज़ो आबे पिछले साल दिसंबर में दौरा भारत के मौके पर सिविल परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग के लिए दोनों देशों के बीच व्यापक समझौता किया गया था। लेकिन कुछ समस्याओं के तहत निपटान होने के कारण अभी हस्ताक्षर नहीं किए गए थे।

विदेश मंत्रालय में प्रवक्ता विकास स्वारूप ने ट्विटर पर लिखा कि ” एक साफ-सुथरी और रसीला दुनिया के लिए एक ऐतिहासिक समझौता! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रधानमंत्री शनज़ोबे ने ऐतिहासिक सियोल परमाणु समझौता स्वैप देखा। ‘ इस समझौता भारत को जापान से परमाणु प्रौद्योगिकी प्रदान करने का मार्ग प्रशस्त होगा। इस तरह भारत परमाणु अप्रसार समझौता न करने वाला ऐसा पहला देश बन गया है जिसने टोक्यो के साथ यह समझौता किया है। ये समझौता दोनों देशों के बीच आर्थिक और सुरक्षा संबंधों अधिक स्थिर होंगे।

जापान दुनिया का एकमात्र देश है जो द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान परमाणु बम का सबसे खराब निशाना बना था और विशेषकर 2011 के नकोशियमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र में हुई तबाही निवेश के मद्देनजर जापान में परमाणु ऊर्जा राजनीतिक प्रतिरोध भी किया जा रहा है। परमाणु ऊर्जा के मार्किट में जापान एक प्रमुख शक्ति है और उसके साथ  अमेरिकी परमाणु कंपनियों द्वारा भारत में परमाणु ऊर्जा संयंत्रों का मार्ग प्रशस्त करेगी .अमरिकी संस्था वेटिंग हाउज़ बिजली निगम और जीई एनर्जी अनकारिपोरीशीन …. भारत में परमाणु संयंत्रों की स्थापना करेंगे। क्योंकि इन दोनों संस्थाओं में जापान का निवेश है। अमेरिका, रूस, दक्षिण कोरिया, मनगोलियह, फ्रांस, नामीबिया, अर्जेंटीना, कनाडा, कजाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया भी भारत के साथ सियोल परमाणु समझौता कर चुके हैं।

TOPPOPULARRECENT