Saturday , August 19 2017
Home / Featured News / भारत माता की जय के नारे लगाने से इनकार पर महाराष्ट्र विधानसभा से मजलिसी सदस्य निलंबित

भारत माता की जय के नारे लगाने से इनकार पर महाराष्ट्र विधानसभा से मजलिसी सदस्य निलंबित

वारिस पठान की रिमार्क पर सदन में हंगामा, भाजपा, शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा से आज मजलिस ए इत्तेहादुल मुसलमीन (एम आई एम) के सदस्य वारिस पठान को निलंबित कर दिया गया जिन्होंने भारत माता की जय ‘कहने से इनकार कर दिया था जिस पर अन्य सभी विधायकों ने अपनी पार्टी प्रतिबद्धता से परे होकर उनके खिलाफ राष्ट्र संकल्प द्वारा कार्रवाई की।

वारिस पठान जो दक्षिण मुंबई के क्षेत्र बाईकला का प्रतिनिधित्व करते हैं, इस बजट सत्र के अंत तक सदन के संचालन में भागीदारी नहीं कर सकेंगे। संसदीय मामलों गरच बापट ने कहा कि ” पठान को राष्ट्रीय नायकों के प्रति बदअहतरामी प्रदर्शन और भारत माता की जय कहने से इनकार पर विधानसभा से निलंबित किया गया है।

” ये हंगामा उस समय शुरू हुआ जब ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुसलमीन (ए आई एम आई एम) के औरंगाबाद का प्रतिनिधित्व सदस्य भेदभाव जलील सदन में राज्यपाल के भाषण पर संबोधित कर रहे थे। जलील ने कहा कि सरकार को चाहिए कि वह ‘महान हस्तियों’ स्मारकों के निर्माण पर टैक्स देने वालों की रक़म खर्च नहीं करना चाहिए जिस पर शिवसेना के एक सदस्य ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि जलील पार्टी नेता असदुद्दीन ओवैसी ने हाल ही में कहा था कि वह भारत माता की जय नहीं कहेंगे, जो वारिस पठान ने कहा कि ” हम जय हिंद कहेंगे लेकिन भारत माता की जय नहीं कहेंगे।

‘भारत माता की जय’ कहना चाहिए नहीं है। संविधान में यह बात नहीं कही गई है। ” उनके इन रिमार्कों के तुरंत बाद सत्तारूढ़ भाजपा और शिवसेना के क्षेत्र सहित कांग्रेस और एनसीपी अन्य विपक्षी दलों ने एम आई एम के विधायकों को सदन से निलंबित करने की मांग की।

मंत्री माल एकनाथ खडसे ने कहा कि एआईएमआईएम के विधायकों को माफी मांगनी चाहिए लेकिन सदन के अन्य सभी नाराज सदस्यों ने उनके प्रस्ताव को खारिज कर दिया और राजनीतिक मतभेदों को ताक पर रखते हुए उनके निलंबन की मांग की। बापट ने कहा कि एम आई एम सदस्यों को सदन से निलंबन के लिए वह‌ एक प्रस्ताव पेश करेंगे जिसके बाद सदन 10 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया।

शोरगुल और संघर्ष के दृश्यों के बीच सदन का यह तीसरा लंबित था और जैसे ही कार्रवाई बहाल हुई गृहमंत्री रंजीत पाटिल ने सदन में प्रस्ताव पेश किया और पठान के निलंबन का प्रस्ताव रखा गया, जिसे सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया गया। रंजीत पाटिल ने कहा कि ” पठान ने सही अभिव्यक्ति विचार व्यक्त करने का दुरुपयोग किया है, संसदीय परंपराओं का उल्लंघन किया है और ‘भारत माता’ का अपमान किया है।

उन्होंने कहा कि सदन की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए यह प्रस्ताव पेश किया गया है। पाटिल ने कहा कि ” पठान अपनी निलंबन अवधि के दौरान सदन की कार्यवाही में भाग नहीं ले सकेंगे और उन्हें विधान भवन परिसर के करीब आने की इजाज़त‌ नहीं रहेगी। ‘ अध्यक्ष हरि भाव बगाडे ने सदन को सूचित किया कि इस संकल्प सर्वसम्मति से पारित कर ली गई।

एमआईएम ने भारत माता की जय ‘के नारे लगाने का विरोध किया और कहा कि यह प्रस्ताव आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने पेश की है जिन्होंने कहा था कि नई पीढ़ी को भारत की प्रशंसा और स्तुति का पाठ देने की जरूरत है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था कि वह यह नारा नहीं लगाएंगे।

ओवैसी ने 13 मार्च को जिला लातूर की ओदगीर तहसील में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि ” आप क्या कहने जा रहे हैं भागवत साहब। में (यह नारा) नहीं लगाऊँगा यहां तक ​​कि आप अगर मेरे गले पर चाकू रख दें। संविधान में कहीं भी यह नहीं कहा गया है कि किसी को ‘भारत माता की जय’ कहना होगा ”। ओवैसी के इन रिमार्कों पर शिवसेना और भाजपा ने गंभीर प्रतिक्रिया व्यक्त की थी।

TOPPOPULARRECENT