Wednesday , October 18 2017
Home / Delhi / Mumbai / भारत माता की जय नारे के लिए ज़ोर पर विपक्षी दलों का भाजपा पर गंभीर आलोचना

भारत माता की जय नारे के लिए ज़ोर पर विपक्षी दलों का भाजपा पर गंभीर आलोचना

नई दिल्ली: राष्ट्रीयता पसंद पर चर्चा आज अधिक तीव्रता विकल्प गयी जबकि विपक्षी दलों ने भारत माता की जय के लिए भाजपा के ज़ोर की आलोचना की और कहा कि यह केवल हिटलर की विधि है। उत्तर में सत्ताधारी दल ने कहा कि इस नारे का विरोध देशद्रोह के समान है।

विपक्षी दलों ने भाजपा पर केवल अपने वादों को पूरा करने में विफलता से ध्यान हटाने के लिए राष्ट्रीयता मज़ा समस्या उठाने का आरोप लगाया। भाजपा ने कहा कि भारत माता का विरोध करने वाले से राजद्रोह की श्रेणी में आते हैं और वह राष्ट्रीयता मज़ा भावनाओं को बल पहुंचाने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि जनता को विरोधी राष्ट्र पसंद जैसे अफजल गुरु की प्रशंसा की आदत हो चुकी है।

हिन्दुस्तान‌ जिंदाबाद, जय हिंद और क्रांति जिंदाबाद राष्ट्रीयता पसंद है तो राष्ट्रीयता  के विभिन्न रूपों में व्यक्त किया जा सकता है। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि अभी यह कहना कि भारत माता की जय नारे का मतलब ही राष्ट्रीयता की तरह है और इसके लिए जोर देना साफ पता चलता है कि वह जनता को लेकर इसी तरह का व्यवहार कर रहे हैं जो तरह हिटलर ने जर्मनी में फासीवाद को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीयता का मज़ा का सहारा लिया था।

राज्यसभा नेता गुलाम नबी आजाद ने भाजपा का उपहास और कहा कि यह शायद अंतिम पार्टी है जो राष्ट्रीयता पसंद की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि देश की जनता काफी समझदार हैं और वे समझते हैं कि यह चर्चा केवल उनके ध्यान हटाने के लिए शुरू की गई है। भाजपा ने रोजगार, विकास और कीमतों में कमी के अलावा अन्य कई जो वादे किए थे उन्हें पूरा करने में नाकाम रही।

अपनी इस विफलता छिपाना करने के लिए अब उसके पास यही एक एजेंडा रह गया है कि जनता का ध्यान इन वास्तविक मुद्दों से हटाए जाए। जद यू नेता पवन वर्मा ने कहा कि पांच राज्यों में प्रस्तावित विधानसभा चुनावों के मद्देनजर ऐसे मुद्दों को बढ़ावा दिया जा रहा है। आम आदमी पार्टी नेता आशुतोष ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि उसने कभी देश के संघर्ष स्वतंत्रता में भाग नहीं लिया और अब वह अपने हाथों और माथे पर राष्ट्रीयता का मज़ा का लबादा ओढ़ने की कोशिश कर रही है ताकि देशभक्ति का सबूत दे सके।

बीएसपी नेता ने भी भाजपा की इस संकीर्णता आलोचना की। विपक्ष की आलोचनाओं का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री संसदीय कार्य और वरिष्ठ भाजपा नेता एम वेंकैया नायडू ने कहा कि राष्ट्रीयता मज़ा भावनाओं बनाने की जरूरत है क्योंकि कुछ लोगों को भारत माता की जय के नारे पर आपत्ति है और विरोधी राष्ट्र पसंद जैसे अफजल गुरु और याकूब मेमन की प्रशंसा और प्रशंसा उनकी आदत बन चुकी है।

केंद्रीय मिनिस्टर आफ़ स्टेट मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि भारत माता की जय के नारे राष्ट्रीयता प्रमाणपत्र नहीं लिकनभारत माता का विरोध, उपहास और आलोचना से कोई भी देशद्रोह की श्रेणी में आता है।

TOPPOPULARRECENT