Wednesday , September 20 2017
Home / Delhi / Mumbai / भारत में धार्मिक स्वतंत्रता, महिलाओं के साथ-दुर्व्यवहार पर चिंता

भारत में धार्मिक स्वतंत्रता, महिलाओं के साथ-दुर्व्यवहार पर चिंता

मम्बई/वाशिंगटन: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे से पहले प्रमुख अमेरिकी सनीटरज़ ने भारत में धार्मिक स्वतंत्रता, सियोल सोसाईटी पर बढ़ते हमले और मानव अधिकारों पर चिंता जताई है जबकि ओबामा प्रबंधन का कहना है कि वे इन मुद्दों पर देश के साथ बातचीत कर रहा है। कोलोराडो सीनेटर कोरी गार्डनर ने सीनेट की विदेश संबंध समिति की ओर से मांगी गई कांग्रेस सुनवाई कृपया भारत के दौरान कहा कि भारत में धार्मिक स्वतंत्रता के संबंध में वर्तमान स्थिति चिंता पैदा करती है।

वर्जीनिया सीनेटर टिम कैनन ने लेखकों और कलाकारों से अपने पुरस्कार की वापसी के संबंध में धार्मिक असहिष्णुता की हाल की घटनाओं पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वह इस मसले पर प्रधानमंत्री मोदी के साथ बात कर पाएंगे जब वह वाशिंगटन डीसी को अगले महीने यात्रा करेंगे।

कुछ राज्यों में धर्मांतरण को रोकने से संबंधित कानूनों को भ्रमित अपमानजनक बताते हुए मीरीलैंड सीनेटर बन कार्डीन जो सीनेट की विदेश संबंध समिति के रैंकिंग सदस्य हैं, भारत में धार्मिक स्वतंत्रता के बारे में चिंता व्यक्त की। कुछ सदस्यों ने अमेरिकी आयोग अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के सदस्यों को वीज़ा की इजराई से मना करने का मुद्दा उठाया।

सनीटरज़की चिंता और चिंता से सहमत हुए सहायक सचिव राज्य कृपया दक्षिण और मध्य एशिया निशा देसाई बिस्वाल ने कहा कि हालांकि ओबामा प्रबंधन इन समस्याओं और चिंता को उच्चतम स्तर पर उठा रहा है और इस मुद्दे पर भारत से बातचीत में भी व्यस्त है, लेकिन खुद भारत का लचीला समाज काफी मजबूत है और इस बारे में आवाज बुलंद कर रहा है। निशा देसाई ने कहा कि भारत के आंतरिक धार्मिक स्वतंत्रता और धार्मिक सहिष्णुता को लेकर काफी ठोस बहस होते आए हैं और यह कि खुद भारतीय जनता की आवाज से बढ़कर कोई ठोस बात नहीं जो लगातार उत्साह और सार्वजनिक बहस के साथ इन मुद्दों उठा रही है।

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि यह विषय भारतीय समाचार पत्रों की सुर्खियों में है जिससे पता चलता है कि इस मसले पर काफी गतिविधि पाई जाती है। ” मुझे लगता है वही समस्या है| यही मान रहे हैं कि हम प्रिय हैं| जिन्हें हम चर्चा करते हैं। लेकिन हम कोशिश करते हैं कि यह काम संभव रचनात्मक तरीके हो और इस तथ्य को भूल न करें कि यही वह समस्या है जिस पर भारत को खुद अपने देश, खुद उनकी लोकतंत्र, खुद उनके समाज के हित निपटना चाहिए।

TOPPOPULARRECENT