Tuesday , August 22 2017
Home / Bihar News / भारत में संभव नहीं कैशलेस इकॉनमी, 50 दिनों बाद नोटबंदी की समीक्षा होगी

भारत में संभव नहीं कैशलेस इकॉनमी, 50 दिनों बाद नोटबंदी की समीक्षा होगी

पटना। नोटबंदी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्थन देने के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि भारत में कैशलेस इकोनॉमी के सपने को साकार कर पाना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के 50 दिन पूरे होने पर पार्टी के स्तर पर वह इसकी समीक्षा करेंगे। अब 30 दिसंबर के बाद ही इस पर कोई राय देंगे।

सीएम ने कहा कि नोटबंदी की घोषणा के बाद हमने तुरंत इसका स्वागत किया था। इसके साथ ही नौ नवंबर को और फिर 16 नवंबर को कहा था कि सिर्फ नोटबंदी से काम नहीं चलेगा।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि 50 दिन पूरा हाेने के बाद ही वह अपनी प्रतिक्रिया देंगे। इस मुद्दे पर पार्टी की बैठक होगी। एक-एक बिंदु पर विमर्श किया जायेगा। यह राष्ट्रीय मुद्दा है।

फिलहाल हम प्रकाश पर्व और काल चक्र पूजा में व्यस्त हैं। महीने के तीसरे सोमवार को संवाद सभागार में लोक संवाद कार्यक्रम के समापन के बाद पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत जैसे मुल्क में कैशलेस इकॉनोमी संभव नहीं है।
आम आदमी कैश में ही ट्रांजेक्शन करता है। यह यहां के कल्चर और स्वभाव में शामिल है। कैशलेश इकॉनोमी तो अमेरिका जैसे देश में भी 40-50 प्रतिशत ही हो सका है। जैसे-जैसे देश विकास करता जायेगा, कैशलेस बढ़ेगा।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि आज भी केंद्र सरकार से राज्य को कैशलेस ही राशि मिलती है। कैशलेस के लिए व्यापक पैमाने पर उपकरणों की खरीद करनी होगी। तब जाकर कैश का प्रयोग घटेगा। एक प्रश्न के जवाब में सीएम ने कहा कि जब तक कालेधन पर हमला नहीं होगा तब तक कुछ नहीं होगा।

देश के बड़े-बड़े लोगों के पास सोना, हीरा, जमीन पड़ा हुआ है। जब तक सख्ती से इस पर कब्जा नहीं किया जायेगा तब तक कुछ नहीं होने वाला है। उन्होंने कहा कि देश में कालाधन बहुत है। जब तक संगठित तौर पर ब्लैकमनी पर हमला नहीं होगा तब तक इसका बड़ा इलाज नहीं होगा।

TOPPOPULARRECENT