Sunday , September 24 2017
Home / Islami Duniya / भारत में होने वाले ‘द हार्ट अॉफ एशिया’ सम्मेलन में हिस्सा लेगा पाकिस्तान

भारत में होने वाले ‘द हार्ट अॉफ एशिया’ सम्मेलन में हिस्सा लेगा पाकिस्तान

इस्लामाबाद। पाकिस्तान उरी हमले के बाद देश को अलग-थलग करने के भारत सरकार के प्रयासों के प्रभाव को कम करने के लक्ष्य के साथ अफगानिस्तान को लेकर भारत में होने वाले एक प्रमुख सम्मेलन में हिस्सा ले सकता है। पंजाब के अमृतसर में दिसंबर के पहले सप्ताह में ‘द हार्ट ऑफ एशिया-इस्तांबुल’ मंत्रिस्तरीय बैठक का आयोजन होना है। पाकिस्तान में नवंबर में होने वाले दक्षेस शिखर सम्मेलन का भारत द्वारा बहिष्कार किए जाने और दोनों देशों के बीच के मौजूदा तनाव को देखते हुए पाकिस्तान की भागीदारी को लेकर संशय की स्थिति थी।

पाकिस्तान की ओर से जारी सीमा पार आतंकवाद का हवाला देते हुए भारत ने घोषणा की थी कि ‘मौजूदा परिस्थितियों’ में वह इस्लामाबाद में आयोजित होने वाले दक्षेस सम्मेलन में हिस्सा नहीं ले पाएगा। ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की खबर के मुताबिक इस बारे में जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने बताया कि हार्ट ऑफ एशिया-इस्तांबुल सम्मेलन से दूर रहकर पाकिस्तान का भारत के अनुकरण का कोई इरादा नहीं है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर बताया, ‘‘संबंधित पक्षों का विचार है कि पाकिस्तान को हार्ट ऑफ एशिया-इस्तांबुल सम्मेलन में हिस्सा लेना चाहिए।

”अधिकारी ने बताया कि सम्मेलन के अफगानिस्तान से जुड़े होने के कारण इसके बहिष्कार का सवाल हीं नहीं पैदा होता. उन्होंने बताया, ‘‘हम लोगों ने बार-बार कहा है कि पाकिस्तान हर उस पहल का समर्थन करता है, जिसका सरोकार अफगानिस्तान की शांति और स्थिरता से है।” हालांकि अब तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि पाकिस्तान इस सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज को भेजेगा या किसी कनिष्ठ अधिकारी को।

अंतिम अधिकारी ने बताया कि बैठक में पाकिस्तान के हिस्सा लेने से दुनिया भर में यह स्पष्ट संदेश जायेगा कि भारत से इतर वह अफगानिस्तान में शांति और स्थिरता की स्थापना के लिए अपने पडोसियों से संपर्क करने के पक्ष में है।

TOPPOPULARRECENT